"चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य" के अवतरणों में अंतर

विक्रमादित्य मालवगणमुख्य ने ईसा पूर्व 56 में विक्रम संवत् चलाया था। इस विक्रमादित्य ने नहीं। इतना लिखने पर भी न समझे तो वह व्यक्ति शुन है शृगाल मुढ बुध्दि है ऐसा ही कहना पडेगा। हरामी ने अपनी अम्मीयभनी ने निर्थक ही एकबार ऐसा किया है। पुन्ह न हो। यह सुधार आवश्यक है अन्यथा कोर्ट में याचिका दायर की जाएगी।
छो (Aniket M Gautam (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(विक्रमादित्य मालवगणमुख्य ने ईसा पूर्व 56 में विक्रम संवत् चलाया था। इस विक्रमादित्य ने नहीं। इतना लिखने पर भी न समझे तो वह व्यक्ति शुन है शृगाल मुढ बुध्दि है ऐसा ही कहना पडेगा। हरामी ने अपनी अम्मीयभनी ने निर्थक ही एकबार ऐसा किया है। पुन्ह न हो। यह सुधार आवश्यक है अन्यथा कोर्ट में याचिका दायर की जाएगी।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका उन्नत मोबाइल सम्पादन Manual revert Reverted
'''चन्द्रगुप्त द्वितीय महान''' जिनको [[संस्कृत भाषा|संस्कृत]] में '''[[विक्रमादित्य ६|विक्रमादित्य]]''' या '''चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य''' के नाम से जाना जाता है; वह [[भारत]] के महानतम एवं सर्वाधिक शक्तिशाली सम्राट थे। उनका राज्य 375-414 ई. तक चला जिसमें गुप्त राजवंश ने अपना शिखर प्राप्त किया। [[गुप्त राजवंश|गुप्त साम्राज्य]] का वह समय भारत का [[स्वर्णिम युग]] भी कहा जाता है। चन्द्रगुप्त द्वितीय महान अपने पूर्व राजा [[समुद्रगुप्त]] महान के पुत्र थे। उन्होंने आक्रामक विस्तार की नीति एवं लाभदयक पारिग्रहण नीति का अनुसरण करके सफलता प्राप्त की।
 
चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य ने [[विक्रम संवत|विक्रम सम्वत्]] का प्रारम्भ किया। [[साँची अभिलेख]] में उसे 'देवराज' और 'प्रवरसेन' कहा गया है। विक्रमादित्य ने अपनी दूसरी राजधानी [[उज्जैन|उज्जयिनी]] को बनाया। चन्द्रगुप्त ने विदानो को संरक्षण दिया, उसके दरबार में नवरत्न निवास किया करते थे जिनमें [[कालिदास]], [[वराह मिहिर|वराहमिहिर]], [[धन्वन्तरि]] प्रमुख थे। उसने शक्तिशाली राजवंशों से वैवहिक सम्बम्ध स्थापित किए। चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के समय ही [[चीन|चीनी]] बौद्ध यात्री [[फ़ाहियान|फाह्यान]] भारत आया था। उसके शासनकाल में कला, साहित्य, स्थापत्य का अभूतपूर्व विकास हुआ, इसलिए चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के शासन काल को गुप्त साम्राज्य का स्वर्णयुग कहा जाता है।
 
== परिचय ==
529

सम्पादन