"मुद्रा (विनिमय माध्यम)" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
[[File:Monetaria moneta 01.JPG|thumb|260px|कई स्थानों पर दुर्लभ प्रकार के शंखों को मुद्रा माना जाता था। इस शंख का नाम "कौड़ी" (Cowry) है और यह [[संयुक्त राज्य अमेरिका|अमेरिका]] और [[भारत]] में कभी मुद्रा थी, जिसे से [[हिन्दी]] में "फूटी कौड़ी भी न देना" एक लोकोक्ति बन गईगई।]]
'''मुद्रा''' (Money) ऐसी वस्तु या आधिकारिक प्रमाण होता है जो [[माल और सेवाओं]] को खरीदने के लिए और ऋणों व [[कर|करों]] के भुगतान के लिए स्वीकार्य होता है। मुद्रा का मुख्य कार्य विनिमय का माध्यम (medium of exchange) होना और मूल्य का कोश (store of value) होना है। मुद्रा की श्रेणी में ऐसी कोई भी चीज़ आती है जो इन कार्यों को सम्पन्न करती हो। विश्व का लगभग हर आधुनिक देश मुद्रा का मानकीकरण कर के उसकी ईकाईयाँ जारी करता है, जिसे [[करंसी]] (currency) कहा जाता है।<ref>{{cite book |title=The Economics of Money, Banking, and Financial Markets |last=Mishkin |first=Frederic S. |author-link=Frederic Mishkin |year=2007 |publisher=Addison Wesley |location=Boston |isbn=978-0-321-42177-7 |page=8|edition=Alternate }}</ref><ref>[https://books.google.com/books?id=MDU-NTEJziMC&pg=PA47 ''What Is Money?''] By John N. Smithin. Retrieved July-17-09.</ref><ref>{{cite web |url=http://www.dictionaryofeconomics.com/article?id=pde2008_M000217&edition=current&q=money&topicid=&result_number=5 |title=money : The New Palgrave Dictionary of Economics |website=The New Palgrave Dictionary of Economics |access-date=18 December 2010}}</ref>