"भक्ति": अवतरणों में अंतर

230 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
No edit summary
 
भक्ति [[तर्क]] पर नहीं, श्रद्धा एवं विश्वास पर अवलंबित है। पुरुष ज्ञान से भी अधिक श्रद्धामय है। मनुष्य जैसा विचार करता है, वैसा बन जाता है, इससे भी अधिक सत्य इस कथन में है कि मनुष्य की जैसी श्रद्धा होती है उसी के अनुकूल और अनुपात में उसका निर्माण होता है। प्रेरक भाव है, विचार नहीं। जो भक्ति भूमि से हटाकर द्यावा में प्रवेश करा दे, मिट्टी से ज्योति बना दे, उसकी उपलब्धि हम सबके लिए निस्संदेह महीयसी है। घी के ज्ञान और कर्म दोनों अर्थ हैं। हृदय श्रद्धा या भाव का प्रतीक है। भाव का प्रभाव, वैसे भी, सर्वप्रथम हृदय के स्पंदनों में ही लक्षित होता है।
 
==सन्दर्भ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
==सन्दर्भ==
*[[पूजा]]
*[[भक्ति योग]]
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[https://www.academia.edu/39951504/Dictionary_of_Bhakti_Part_4 भक्ति शब्दावली, भाग-४]
 
[[श्रेणी:धर्म]]