"मध्य प्रदेश के ज़िले" के अवतरणों में अंतर

(टैग {{स्रोतहीन}} लेख में जोड़ा जा रहा (ट्विंकल))
(→‎इतिहास: Date number)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
 
 
•१९५६•1956 में गठन के समय कुल जिले ४३43 थे।
 
•1972 में 2 जिले बनाए गए ४३43+2=४५45
-भोपाल
-राजनांदगांव
 
•१९९८•1998 में बड़े जिलों से १६16 नए जिले बनाए गए जिनसे मध्यप्रदेश में कुल जिलों की संख्या ६१61 हो गई। ४५45+१६16=६१61
जिनमें से १६16 जो नए जिले बनाए थे उनमें से 7 जिले वर्तमान में मध्यप्रदेश में है।
 
•२०००•2000 में मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ को अलग राज्य बनाया गया और १६16 जिले इस राज्य में दिए गए इस प्रकार मध्यप्रदेश में जिलों कि संख्या पुनः ४५45 हो गई।
 
•छत्तीसगढ़ विभाजन के समय मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह थे।
 
•२००३•2003 में पुनः 3 नए जिले बनाए गए इस समय मुख्यमंत्री सुश्री उमा भारती जी थे जो कि मध्यप्रदेश की प्रथम महिला सीएम है।
तीन नए जिले इस प्रकार है -
-अनूपपुर
-बुरहानपुर
-अशोकनगर
इस प्रकार जिलों कि कुल संख्या ४५45+3=४८48 हो गई।
 
•२००८•2008 में 2 नए जिले बनाए गए इस समय सीएम श्री शिवराज सिंह चौहान थे।
-अलीराजपुर (झाबुआ से)
-सिंगरोली (सीधी से)
जिलों की संख्या ४८48+2=५०50
 
•१६•16 अगस्त २०१३2013 में एक नया जिला बनाया गया।
-आगर मालवा (शाजापुर से)
कुल जिले ५०50+1=५१51
 
•१•1 अक्टूबर २०१८2018 में एक ओर नया जिला बनाया गया।
 
-निवाड़ी (टीकमगढ़ से)
कुल जिले ५१51+1=५२52
 
•१८•18 मार्च २०२०2020 को 3 नए जिलों को मंजूरी प्रदान की गई।
सीएम - श्री कमलनाथ
 
-नागदा (उज्जैन से)
-चाचौड़ा (गुना से)
इस प्रकार मध्यप्रदेश में कुल जिले ५२52+3=५५55
 
इसी प्रकार मध्यप्रदेश में वर्तमान में कुल ५५55 जिले और १०10 संभाग है।
 
==सन्दर्भ==
बेनामी उपयोगकर्ता