"सहस्रबाहु मंदिर" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
छो (Anamdas ने सासबहू मंदिर पृष्ठ सहस्रबाहु मंदिर पर स्थानांतरित किया: सही नाम)
{{Infobox religious building
| name = सहस्त्र बाहुसहस्रबाहु मंदिर, ग्वालियर
| native_name = Sahstrabahu(अपभ्रंश temple,नाम Gwalior- सास बहू मंदिर)
| image =
| caption = दो मंदिरों में से एक
| website =
}}
'''सास-बहूसहस्रबाहु मंदिर''' (अपभ्रंश नाम - सास बहू मंदिर) [[भारत]] के [[मध्य प्रदेश]] राज्य के [[ग्वालियर]] क्षेत्र में स्थित एक 11वीं शताब्दी में निर्मित [[हिन्दू]] [[मन्दिर|मंदिर]] है। यह [[विष्णु]] के पद्मनाभ रूप को समर्पित है और [[ग्वालियर का क़िला|ग्वालियर के किले]] के समीप स्थित है। यहाँ मिले शिलालेख के अनुसार इसका निर्माण [[कच्छपघात राजवंश]] के राजा महिपाल ने सन् 1093 में किया था। बाद में हुई हिन्दू-मुस्लिम झड़पों में मंदिर को क्षति पहुँची और अब इसके खंडहर हैं।<ref name="Allen1991p211">{{cite book|author=Margaret Prosser Allen|title=Ornament in Indian Architecture|url=https://books.google.com/books?id=vyXxEX5PQH8C |year=1991|publisher=University of Delaware Press|isbn=978-0-87413-399-8|pages=211–212}}</ref><ref name="Kramrisch1946p139">{{cite book|author=Stella Kramrisch|title=The Hindu Temple|url=https://books.google.com/books?id=NNcXrBlI9S0C&pg=PA139|year=1946|publisher=Motilal Banarsidass|isbn=978-81-208-0223-0|pages=139 with footnote 29|access-date=21 जुलाई 2019|archive-url=https://web.archive.org/web/20190809073257/https://books.google.com/books?id=NNcXrBlI9S0C|archive-date=9 अगस्त 2019|url-status=live}}</ref>
 
शिलालेख के अनुसार इसका निर्माण [[कच्छपघात राजवंश]] के राजा महिपाल ने सन् 1093 में किया था। बाद में हुई हिन्दू-मुस्लिम झड़पों में मंदिर को क्षति पहुँची और अब इसके खंडहर हैं।<ref name="Allen1991p211">{{cite book|author=Margaret Prosser Allen|title=Ornament in Indian Architecture|url=https://books.google.com/books?id=vyXxEX5PQH8C |year=1991|publisher=University of Delaware Press|isbn=978-0-87413-399-8|pages=211–212}}</ref><ref name="Kramrisch1946p139">{{cite book|author=Stella Kramrisch|title=The Hindu Temple|url=https://books.google.com/books?id=NNcXrBlI9S0C&pg=PA139|year=1946|publisher=Motilal Banarsidass|isbn=978-81-208-0223-0|pages=139 with footnote 29|access-date=21 जुलाई 2019|archive-url=https://web.archive.org/web/20190809073257/https://books.google.com/books?id=NNcXrBlI9S0C|archive-date=9 अगस्त 2019|url-status=live}}</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==