"कीटविज्ञान" के अवतरणों में अंतर

40 बैट्स् नीकाले गए ,  4 माह पहले
छो
2409:4053:68C:B483:0:0:2199:20B1 (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(→‎परिचय: कुछ नहीं बदला आपका लिखा हुआ कैसे बदलू.)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (2409:4053:68C:B483:0:0:2199:20B1 (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
[[चित्र:Merian insectes Surinam.jpg|right|thumb|300px|पादप और कीट]]
'''कीटविज्ञान''' (एंटोमॉलोजी Entomology) [[प्राणिविज्ञान]] का एक अंग है जिसके अंतर्गत कीटों अथवा षट्पादों का अध्ययन आता है। षट्पाद (षट्=छह, पाद=पैर) श्रेणी को ही कभी-कभी कीट की संज्ञा देते हैं। कीट की परिभाषा यह की जाती है कि यह वायुश्वसनीय संधिपाद प्राणी (Arthropod) है, जिसमें सिर, वक्ष और उदर स्पष्ट होते हैं; एक जोड़ी श्रृंगिकाएं (Antenna) तीन जोड़े, पैर और वयस्क अवस्था में प्राय: एक या दो जोड़े पंख होते हैं। कीटों में अग्रपाद कदाचित्‌ ही क्षीण होते हैं।-ffffutharffffut
 
== परिचय ==
टाइफ़ाइड ज्वर बैक्टीरिया जनित बीमारी है। इसकी छूत कई प्रकार से लग सकती है। घरेलू मक्खी इस रोग का मुख्य प्रसारक समझी जाती है। अनेक प्रकार के फीताकृमि (Tapaworm) अपने जीवनेइतिहास का कुछ अंश कीटों के शरीर में व्यतीत करते हैं। अन्य अनेक रोगों का प्रसार भी कीटों द्वारा होता है।
 
उष्ण प्रदेशों में निद्रालु रोग (Sleeping sickness) त्सेत्सि (Tsetse) मक्खी द्वारा और फीलपाँव (Elephantisis) मच्छरों द्वारा फैलता है। बहुत अच्छा हैl
 
== विषैले कीट ==