"गोरखपुर विमानक्षेत्र" के अवतरणों में अंतर

छो
सम्पादन सारांश रहित
(→‎उड़ानें: संदर्भ लगाए।)
छो
| stat2-data =
}}
''' गोरखपुर विमानक्षेत्र ''' या '''महायोगी गोरखनाथ हवाईअड्डा''' भारत के राज्य [[उत्तरप्रदेश]] के [[गोरखपुर]] शहर में गोरखपुर - कुशीनगर राज़मार्ग पर स्थित है।<ref>{{Cite web|url=https://www.aai.aero/en/node/77714|title=GORAKHPUR AIRPORT|last=|first=|date=|website=भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण|archive-url=|archive-date=|dead-url=|access-date=}}</ref> इसका [[अन्तर्राष्ट्रीय नागर विमानन संगठन विमानक्षेत्र कोड|ICAO कूट]] VEGK है और GOP [[IATA कोड]] GOP है। यह एक सैन्य हवाई अड्डा है और शहर से 5 किमी की दूरी पर स्थित है। यह एक घरेलू हवाईअड्डा है और यहां कस्टम्स विभाग उपस्थित नहीं है। इसका रनवे पेव्ड है। इसकी उड़ान पट्टी की लंबाई 9000 फीट है। इसका नाम महायोगी गोरखनाथ हवाईअड्डा है। [[भारतीय वायु सेना]] के मालिकाना हक वाले इस हवाईअड्डे के एक नागरिक हवाईअड्डे के रूप मे इसका परिचालन [[भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण]] करता है। 22.5 करोड की लागत से बने इसके टर्मिनल का कुल क्षेत्रफल 23500 वर्ग फीट है।<ref name="सुरेशप्रभु">{{cite web|url=https://www.financialexpress.com/infrastructure/airlines-aviation/suresh-prabhu-inaugurates-new-domestic-terminal-building-at-gorakhpur-airport/1302179/|title=सुरेश प्रभु ने गोरखपुर मे नए नागरिक टर्मिनल भवन का उद्घाटन किया}}</ref>
 
==इतिहास==
यहा पर नागरिक विमानों का परिचालन सन १९८० से ही आरम्भ हो गया था<ref>{{cite web|url=https://www.tribuneindia.com/news/archive/nation/adityanath-opens-new-airport-terminal-at-gorakhpur-422263|title=आदित्यनाथ ने गोरखपुर मे नए नागरिक टर्मिनल भवन का उद्घाटन किया}}</ref> लेकिन तब यहां बहुत जयादा उडानें नहीं थीं और बाद में यहां से नागरिक उडाने बन्द हो गईं। इसके बाद सन २००० में यहां से [[एयर सहारा]] की उडानें चलीं <ref>{{cite web|url=https://www.pressreader.com/india/hindustan-times-lucknow/20170615/281526521042226|title=गोरखपुर को प्रमुख शहरों से वायु कनेक्तिविटि मिलेगी: योगी}}</ref> जो [[कोलकाता विमानक्षेत्र|कोलकाता]] और [[दिल्ली विमानक्षेत्र|दिल्ली]] जाती थीं। इसके नए नागरिक टर्मिनल भवन का उद्घाटन उत्तर प्रदेश के [[उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों की सूची|मुख्यमन्त्री]] [[योगी आदित्यनाथ]] और तत्कालीन [[उड्डयन मन्त्री, भारत सरकार|उड्डयन मन्त्री]] [[सुरेश प्रभु]] ने सितम्बर २०१८ मे किया था।<ref>{{cite web|urlname=https://www.financialexpress.com/infrastructure/airlines-aviation/suresh-prabhu-inaugurates-new-domestic-terminal-building-at-gorakhpur-airport/1302179/|title=सुरेश प्रभु ने गोरखपुर मे नए नागरिक टर्मिनल भवन का उद्घाटन"सुरेशप्रभु" किया}}</ref> इसके पहले यहां से नागरिक उडानों की बेहतर सुविधाओं के लिये टर्मिनल के पहले चरण (फेज़ १) का लोकार्पण १४ ज़ून २०१७ को योगी अदित्यनाथ ने [[केंद्रीय नागर विमानन राज्यमंत्री, भारत सरकार]] [[जयंत सिन्हा]] की उपस्थिति में किया था।<ref>{{cite web|url=https://www.jagran.com/uttar-pradesh/gorakhpur-city-new-terminal-building-of-gorakhpur-airport-16193599.html|title=गोरखपुर के नए टर्मिनल से यात्रियों को सुविधा मिलेगी: सीएम योगी|date=14 Jun 2017|work=दैनिक जागरण}}</ref><ref>{{cite web|url=https://hindi.news18.com/news/uttar-pradesh/gorakhpur-yogi-adityanath-opens-new-airport-terminal-at-gorakhpur-1016556.html|title=उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को गोरखपुर हवाईअड्डे के नए सिविल टर्मिनल का उद्घाटन किया|date=14 जून 2017|work=न्यूज़18}}</ref>
 
== आधारिक संरचना ==
गोरखपुर के महायोगी गोरखनाथ हवाईअड्डे पर सिर्फ एक ही [[उड़ानपट्टी|रनवे]] है। इसे 11/29 दिशा क्रमांक<ref>{{cite web|language=en|url=https://baaflightschool.com/2018/10/16/what-do-numbers-on-the-runway-mean/|title=What do the numbers on the runway means?|date=16 अक्टूबर 2018|work=बीए स्कूल}}</ref> से दर्शाया गया है। इसकी लम्बाई और चौडाई {{convert|9000|x|150|ft|m|order=flip}} है। इस रनवे का इस्तेमाल भारतीय वायु सेना भी करती है और यह वायुसैनिक अड्डे का ही हिस्सा है। यह 180 से 200 सीटों वाले विमानो के उतरने की क्षमता रखता है।<ref>{{Cite web|url=https://www.qantas.com/in/en/qantas-experience/onboard/seat-maps/airbus-320-200.html|title=QantasLink A320-200 {{!}} Seat maps|last=|first=|date=|website=https://www.qantas.com/|archive-url=|archive-date=|dead-url=|access-date=5 फरवरी 2021}}</ref> [[एयरबस|एअरबस]] का [[ए320]], ए321, [[बोइंग]] का [[बोइंग 747|737]] यहाँ उतरने व उड़ने वाले कुछ प्रमुख विमान हैं। नया टर्मिनल एक समय में 200 यात्रियों को सम्भाल सकता है और इसका क्षेत्रफल 23500 वर्ग फीट है।<ref>{{cite web | url=http://www.aai.aero/allAirports/gorakhpur.jsp | title=गोरखपुर| work=[[भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण]] | date=10 सितम्बर 2016 | access-date=26 फरवरी 2017 | url-status=dead | archive-url=https://web.archive.org/web/20080225073104/http://www.aai.aero/allAirports/gorakhpur.jsp | archive-date=25 फरवरी 2008 }}</ref> इसके निर्माण में कुल 22.5 करोड का खर्च आया।<ref>{{cite news |last1=PTI |language=en|title=Suresh Prabhu inaugurates new domestic terminal building at Gorakhpur Airport |url=https://www.business-standard.com/article/pti-stories/suresh-prabhu-inaugurates-new-domestic-terminal-building-at-gorakhpur-airport-118090301036_1.html |access-date=19 मार्च 2020 |work=बिज़नेस स्टन्डर्ड इन्डिया |date=3 सितम्बर 2018}}</ref> इस हवाईअड्डे पर कार्गो उतारने की सुविधा नहीं है लेकिन इसके जल्द शुरु होने की सम्भावना है।<ref>{{Cite news|url=https://www.amarujala.com/gorakhpur/cargo-service-will-start-from-gorakhpur-airport?pageId=1|title=खुशखबर: रेलवे की तरह फ्लाइट से भी भेज सकेंगे माल, जल्द शुरू होगी कार्गो सेवा|last=शुक्ला|first=विवेक|date=19 दिसम्बर 2020|work=अमर उजाला|access-date=5 फरवरी 2020}}</ref> यहां पर यात्रियों के लिये अपने वाहनों के पार्किंग की सुविधा भी उपलब्ध है। <ref>{{Cite news|url=https://www.amarujala.com/uttar-pradesh/gorakhpur/gkp-airport-parking-gorakhpur-city-news-gkp329419850|title=गोरखपुर हवाईअड्डे पर अब पार्किंग सुविधा उपलब्ध|last=|first=|date=|work=अमर उज़ाला|access-date=}}</ref>
 
== '''उड़ानें''' ==
 
== नजदीकी हवाईअड्डे ==
मौसमी या अन्य आपात काल में जब रनवे पर उतरना सम्भव ना हो तब विमानों को उतरने के लिये नजदीकी विमानपत्तनों कि आवश्यकता होती है। ऐसे में गंतव्य से करीबी हवाईअड्डे की दूरी महत्वपूर्ण हो जाती है।
गोरखपुर हवाईअड्डा भारत [[नेपाल]] की सीमा के करीब स्थित है। नेपाल का [[सिद्धार्थनगर (नेपाल)|भैरहवा हवाईअड्डा]] यहाँ से सबसे नजदीक 85 किमी की दूरी पर है। घरेलू हवाईअड्डों में [[लाल बहादुर शास्त्री अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा|वाराणसी]], [[इलाहाबाद हवाई अड्डा|प्रयागराज़]] व [[अमौसी अंतर्राष्ट्रीय विमानक्षेत्र|लखनऊ]] सबसे करीबी हैं।
 
[[श्रेणी:उत्तर प्रदेश के विमानक्षेत्र]]
[[श्रेणी:भारतीय एयर फ़ोर्स स्टेशन]]
 
 
{{भारतीय विमानक्षेत्र-आधार}}
3,488

सम्पादन