"बलांगिर जिला" के अवतरणों में अंतर

12 बैट्स् जोड़े गए ,  11 माह पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
छो
'''हरिशंकर'''- यह बलांगीर से लगभग ८१ किमी की दूरी पर स्थित है। यह स्थान हरिशंकर मंदिर के लिए प्रसिद्ध है जो गन्धमार्दन पर्वत की दक्षिणी ढाल पर अवस्थित है। गन्धमार्दन पर्वत का यह स्थान औषधीय पौधों के लिए प्रसिद्ध है।
 
'''सोनपुर'''- सोनपुर का नाम जैसा प्रतिबिम्बित करता है, इस अनुपम शहर के विभिन्न भागों में पुराने सोने के सिक्के पाए जाते थे। यह [[महानदी]] और [[तेल नदी]] के संगम के मध्य स्थित बसाया गया एक प्राचीन नगर है। यह बलांगीर से ४८ किलोमीटर दूर है और चारों ओर मन्दिरों से घिरा है।
 
'''रानीपुर झरियाल'''- ये जुड़वाँ शहर हैं जो बलांगीर से १०४ किलोमीटर दूर स्थित हैं। यह बलांगीर जिले के [[टिटलागढ़]] सब-डिवीजन में हरे-भरे पर्यावरण के मध्य स्थित है जो प्राचीन धरोहरों से परिपूर्ण है। यह एक प्राथमिक साक्ष्य है कि यहाँ तीर्थाटन करनेवालों के द्वारा कुछ पुराने मन्दिरों की खोज की गई थी जिस स्थान को 'सोमतीर्थ' कहा जाता है। प्रसिद्ध 64 योगिनी मन्दिर भी यहाँ स्थित है।
 
पटनागढ़- पटनागढ़, पटना राज्य की प्राचीन राजधानी था, जहाँ कुछ अनुपम स्मारक हैं। यह बलांगीर से ३८ किलोमीटर दूर स्थित है।
36

सम्पादन