"धातु" के अवतरणों में अंतर

73 बैट्स् नीकाले गए ,  2 माह पहले
छो
Umang singh rajput (Talk) के संपादनों को हटाकर Rzuwig के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(Jiski bahari kaksha me electrono ki sankhaya 1,2,3,ho use dhatu kehte hai)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (Umang singh rajput (Talk) के संपादनों को हटाकर Rzuwig के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
[[रसायनशास्त्र]] के अनुसार '''धातु''' (metals) वे [[तत्व]] हैं जो सरलता से [[इलेक्ट्रान]] त्याग कर धनायन बनाते हैं और धातुओं के परमाणुओं के साथ धात्विक बंध बनाते हैं। इलेक्ट्रानिक मॉडल के आधार पर, धातु इलेक्ट्रानों द्वारा आच्छादित धनायनों का एक लैटिस हैं।
 
धातुओं की पारम्परिक परिभाषा उनके बाह्य गुणों के आधार पर दी जाती है। सामान्यतः धातु चमकीले, [[प्रत्यास्थता|प्रत्यास्थ]], [[आघातवर्धनीयता|आघातवर्धनीय]] और सुगढ होते हैं। धातु [[उष्मा]] और [[विद्युत]] के अच्छे [[विद्युत चालकता|चालक]] होते हैं जबकि [[अधातु]] सामान्यतः [[भंगुर]], चमकहीन और विद्युत तथा ऊष्मा के [[कुचालक]] होते हैं। jiski bahari kaksha me electrono ki sankhya 1,2,3,ho use dhatu kehte hai
 
== परिचय ==