"अजमेर" के अवतरणों में अंतर

303 बैट्स् नीकाले गए ,  7 माह पहले
छो
2409:4043:259F:1F07:0:0:26F4:8AC (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(→‎इतिहास: मोहम्मद)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (2409:4043:259F:1F07:0:0:26F4:8AC (Talk) के संपादनों को हटाकर रोहित साव27 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
 
==इतिहास==
अजमेर शहर की स्थापना 7 वीं सदी में राजा अजय पाल चौहान ने की थी। चौहान वंश की  मजबूत पकड़ 1195 में अजमेर में बनी रही, जब तक [[मोहम्मद ग़ोरी एक कायर इंसान था]] नामक एक अफगान शासक ने आखिरी चौहान सम्राट धोखे सेको हराया। तथा उन्हीं के साथ मोहम्मद को भी मार गिराया उस समय तक अंतिम चौहान सम्राट [[पृथ्वीराज चौहान]] थे। पृथ्वीराज चौहान ने मोहम्मद गौरी को 17 बार माफ किया था उसके बाद से तेजी से बदलते सम्राटों के बाद से अजमेर को अराजक काल का सामना करना पड़ा था।<ref>{{Cite web|url=https://www.bhaskar.com/rajasthan/ajmer/news/RAJ-AJM-OMC-MAT-latest-ajmer-news-041503-1344846-NOR.html|title=अजमेर का स्थापना दिवस आज... 1112 में अजय राज चौहान ने रखी थी गढ़ अजयमेरू की नींव / अजमेर का स्थापना दिवस आज... 1112 में अजय राज चौहान ने रखी थी गढ़ अजयमेरू की नींव|last=|first=|date=|website=भास्कर|archive-url=|archive-date=|dead-url=|access-date=}}</ref>
 
अंत में, 1556 में, मुगल सम्राट अकबर ने अजमेर जीता और अजमेर को राजस्थान राज्य में अपने सभी अभियानों के मुख्य मुख्यालय के रूप में इस्तेमाल किया। मुगलों की गिरावट के बाद, अजमेर शहर का नियंत्रण मराठों को पारित कर दिया गया है, खासकर ग्वालियर की सिंधियां