"चाणक्य" के अवतरणों में अंतर

51 बैट्स् जोड़े गए ,  2 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
(Rescuing 0 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.8)
|resting_place = {{Wd|properties|linked|references|edit|linked|P119}}
}}
'''चाणक्य''' (अनुमानतः ईसापूर्व 376 - ईसापूर्व 283) [[चन्द्रगुप्त मौर्य]] के महामंत्री थे। वे '''कौटिल्य''' या '''विष्णुगुप्त''' नाम से भी विख्यात हैं। वे [[तक्षशिला विश्वविद्यालय]] के आचार्य थे , उन्होंने मुख्यत: भील और किरात राजकुमारों को प्रशिक्षण दिया <ref>{{ https://books.google.co.in/books?id=Ik-MDwAAQBAJ&lpg=PT20&dq=Magadh%20bhil&hl=hi&pg=PT20#v=onepage&q=Magadh%20bhil&f=false }}</ref> ।<ref>{{cite web|url=https://amp.scroll.in/article/858304/in-the-21st-century-what-do-we-want-more-the-artha-of-chanakya-or-the-dharma-of-ram-rajya?__twitter_impression=true|title=Ram Rajya would certainly have space for Chanakya. But Ram is not Chanakya’s ideal for a king|access-date=14 दिसंबर 2017|archive-url=https://web.archive.org/web/20181009013322/https://amp.scroll.in/article/858304/in-the-21st-century-what-do-we-want-more-the-artha-of-chanakya-or-the-dharma-of-ram-rajya?__twitter_impression=true|archive-date=9 अक्तूबर 2018|url-status=dead}}</ref> उन्होंने [[नंद वंश|नंदवंश]] का नाश करके [[चन्द्रगुप्त मौर्य]] को राजा बनाया। उनके द्वारा रचित '''[[अर्थशास्त्र (ग्रन्थ)|अर्थशास्त्र]]''' नामक ग्रन्थ [[राजनीति]], [[अर्थनीति]], [[कृषि]], [[समाजशास्त्र|समाजनीति]] आदि का महान ग्रंन्थ है। '''अर्थशास्त्र''' मौर्यकालीन भारतीय समाज का दर्पण माना जाता है। चाणक्य की मृत्यु को लेकर दो कहानियां संदर्भ में आती है लेकिन दोनों में से कौन सी सच है इसका अभी कोई सार नहीं निकला है।
 
[[विष्णु पुराण|विष्णुपुराण]], [[भागवत पुराण|भागवत]] आदि पुराणों तथा [[कथासरित्सागर]] आदि संस्कृत ग्रंथों में तो चाणक्य का नाम आया ही है, बौद्ध ग्रंथो में भी इनकी कथा बराबर मिलती है। [[बुद्धघोष]] की बनाई हुई [[विनयपिटक]] की टीका तथा महानाम स्थविर रचित [[महावंश]] की टीका में चाणक्य का वृत्तांत दिया हुआ है। चाणक्य [[तक्षशिला]] (एक नगर जो [[रावलपिंडी]] के पास था) के निवासी थे। इनके जीवन की घटनाओं का विशेष संबंध मौर्य [[चंद्रगुप्त]] की राज्यप्राप्ति से है। ये उस समय के एक प्रसिद्ध विद्वान थे, इसमें कोई संदेह नहीं। कहते हैं कि चाणक्य राजसी ठाट-बाट से दूर एक छोटी सी कुटिया में रहते थे।
1,691

सम्पादन