"प्रमाणसागर" के अवतरणों में अंतर

280 बैट्स् जोड़े गए ,  1 माह पहले
Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.8
छो (Fix typo in name)
(Rescuing 1 sources and tagging 0 as dead.) #IABot (v2.0.8)
 
 
सल्लेखना विवाद के मुद्दे पर, उन्होंने कहा: "संथारा आत्महत्या नहीं है। जैन धर्म आत्महत्या को पाप मानता है। प्रत्येक धर्म के अनुयायी अलग-अलग साधनों के माध्यम से तपस्या करते हैं और जैन धर्म में भी आत्म-शुद्धि के लिए सल्लेखना व्रत धारण किया जाता है" <ref>{{citation |last=Staff |first=Pratika |title=Fatal blow: why the Jain practice of voluntary death is a crime |url=http://www.catchnews.com/india-news/fatal-blow-why-the-jain-practice-of-voluntary-death-is-a-crime-1439307604.html |work=Catch News |date=11 August 2015 }}</ref>
मुनि प्रमाणसागरजी एक दिगंबर साधु हैं, जिन्होंने राजस्थान उच्च न्यायालय द्वारा सल्लेखना पर प्रतिबंध लगाने के फैसले का विरोध करने के लिए धर्म बचाओ आंदोलन का आह्वान किया था. <ref>{{citation |last=Sharma |first=Lalit |title=Rajasthan high court bans Jain ritual of fasting unto death |url=http://hindustantimes.com/india-topstories/rajasthan-high-court-bans-jain-ritual-of-fasting-unto-death/article1-1378673.aspx |work=[[Hindustan Times]] |date=10 August 2015 |location=[[Jaipur]] |access-date=27 अगस्त 2016 |archive-date=14 सितंबर 2015 |archive-url=https://web.archive.org/web/20150914163304/http://www.hindustantimes.com/india-topstories/rajasthan-high-court-bans-jain-ritual-of-fasting-unto-death/article1-1378673.aspx |url-status=dead }}</ref> राजस्थान उच्च न्यायालय का निर्णय बाद में भारत के सर्वोच्च न्यायालय द्वारा स्थगित कर दिया गया था <ref>{{citation| last=viadyanathan|first=A|title=Jain 'Santhara' Ritual of Fast Unto Death Can Continue for Now, Says Court|url=https://www.ndtv.com/india-news/jain-tradition-of-santhara-or-fasting-unto-death-allowed-by-supreme-court-1212645}}</ref><ref>{{citation| last=Staff | first=BBC |title=India top court lifts ban on Jains' santhara death fast
|url=https://www.bbc.com/news/world-asia-india-34105602}}</ref>.
उन्होंने जयपुर में जैन महामंत्र नमोकार मंत्र का १ करोड़ बार जप करने का कार्यक्रम भी आयोजित किया। <ref>{{citation |last=Singh |first=Mahim Pratap |title=Hours after SC ruling, octogenarian ‘resumes’ Santhara in Bikaner |url=http://indianexpress.com/article/india/india-others/hours-after-sc-ruling-octogenarian-resumes-santhara-in-bikaner |work=[[The Indian Express]] |location=[[Jaipur]] |date=1 September 2015 }}</ref> गुणायतन उनकी अन्य धार्मिक पहलों में से एक है। उनके प्रवचन और शंका समाधन कार्यक्रम जिनवाणी और पारस टीवी चैनल पर प्रसारित होते हैं। <ref>{{citation |title=Programs |url=http://www.jinvanichannel.com/shows.aspx |publisher=[[Jinvani channel]] }}</ref>
1,07,454

सम्पादन