"रविदास" के अवतरणों में अंतर

171 बैट्स् जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
आनंद श्री कृष्ण की पुस्तक बुद्ध और उनका दर्शन
छो (2409:4053:386:F05A:4136:9921:1047:43FF (Talk) के संपादनों को हटाकर 27.97.3.105 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(आनंद श्री कृष्ण की पुस्तक बुद्ध और उनका दर्शन)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
सतगुरु रविदास जी भारत के उन विशेष महापुरुषों में से एक हैं जिन्होंने अपने आध्यात्मिक वचनों से सारे संसार को एकता, भाईचारा पर जोर दिया। रविदास जी की अनूप महिमा को देख कई राजा और रानियाँ इनकी शरण में आकर भक्ति मार्ग से जुड़े। जीवन भर समाज में फैली कुरीति जैसे जात-पात के अंत (अन्त) के लिए काम किया।
 
रविदास जी के सेवक इनको " '''सतगुरु'''", "'''जगतगुरु'''" आदि नामों से सत्कार करते हैं। रविदास जी की दया दृष्टि से करोड़ों लोगों का उद्धार किया जैसे: [[मीरा बाई]] आदि, जीजाबाई आदि। उनकी पत्नी लोना एक विदुशी महिला थीं। वो एक वैद्य भी थी।
 
== जीवन ==
बेनामी उपयोगकर्ता