"भारवि": अवतरणों में अंतर

आकार में बदलाव नहीं आया ,  1 वर्ष पहले
→‎भारवि: व्याकरण में सुधार
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(→‎भारवि: व्याकरण में सुधार)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
[[कवि]] हैं। वे अर्थ की गौरवता के लिये प्रसिद्ध हैं ("भारवेरर्थगौरवम्")।
[[किरातार्जुनीयम्]] महाकाव्य उनकी महान रचना है। इसे एक उत्कृष्ट श्रेणी
की काव्यरचना माना जाता है। इनका काल छठी-सातवीं शताब्दिशताब्दी बताया जाता है।
यह काव्य किरातरूपधारी [[शिव]] एवं पांडुपुत्र [[अर्जुन]] के बीच के
धनुर्युद्ध तथा वाद-वार्तालाप पर केंद्रित है। [[महाभारत]] के वन पर्व पर
गुमनाम सदस्य