"पौड़ी गढ़वाल जिला" के अवतरणों में अंतर

(कन्हाई प्रसाद चौरसिया के अवतरण 4637784पर वापस ले जाया गया : प्रचार कड़ी हटाई (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
पौढ़ी गढ़वाल त्योंहारों मैं साल्टा महादेव का मेला, देवी का मेला, भौं मेला सुभनाथ का मेला और पटोरिया मेला प्रसिद्द हैं इसी प्रकार यहाँ के पर्यटन स्थल मैं कंडोलिया का शिव मन्दिर,केतुखाल में भैरोंगढ़ी में भैरव नाथ का मंदिर, बिनसर महादेव, खिर्सू, लाल टिब्बा, ताराकुण्ड, ज्वाल्पा देवी मन्दिर
नील कंठ का शिव मंदिर, देवी खाल का माँ बाल कुँवारी मंदिर प्रमुख हैं।
पौढ़ी गढ़वाल जिला गोलाकार आकार में है। इसके उत्तर में चमोली, रुद्रप्रयाग, टिहरी गढ़वाल दक्षिण में उधम सिंह नगर पूर्व में अल्मोड़ा तथा पश्चिम में देहरादून जिला स्थित है। यहां के बड़े बड़े पहाड़ और जंगल इसकी खूबसूरती का और भी ज्यादा आकर्षण बना देते हैं। यहां से बर्फ से ढके हिमालय के बेहद खूबसूरत और आकर्षक नजारा देखने को मिलते हैं।
<ref>{{cite web |last1=Archana |first1=Yadav |title=देवभूमि के पौड़ी गढ़वाल जिले का इतिहास |url=https://lovedevbhoomi.com/history-of-pauri-garhwal-in-hindi/ |website=Lovedevbhoomi |accessdate=11 अप्रैल 2021}}</ref>
यहाँ से नजदीक हवाई अड्डा जोली ग्रांट जो की पौढ़ी से 150-160 किमी की दुरी पर है रेलवे का नजदीक स्टेशन कोटद्वार ओर ऋषिकेश है एवं सड़क मार्ग मैं यह ऋषिकेश, कोटद्वार, हरिद्वार एवं देहरादून से जुडा है।
 
8

सम्पादन