"पाण्डुलिपि": अवतरणों में अंतर

3 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
(InternetArchiveBot के अवतरण 4771205पर वापस ले जाया गया : Best version (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
[[चित्र:Nandinagari Manuscript.jpg|thumb|450px|[[नन्दिनागरी|नन्दिनगरी]] में लिखी हुई एक पाण्डुलिपि]]
[[चित्र:SummaryDiagramVertical.png|right|thumb|सूचना का विकास-पथ]]
'''पाण्डुलिपि या मातृकाग्रन्थ''' एक हस्तलिखित ग्रन्थविशेष है । इसको हस्तप्रति, लिपिग्रन्थ इत्यादि नामों से भी जाना जाता है। [[अंग्रेज़ी भाषा|आङ्ग्ल]] भाषा में यह ManuscriptManuscriptझ शब्द से प्रसिद्ध है इन ग्रन्थों को MS या MSS इन संक्षेप नामों से भी जाना जाता है। [[हिन्दी|हिन्दी भाषा]] में यह 'पाण्डुलिपि', 'हस्तलेख', 'हस्तलिपि' इत्यादि नामों से प्रसिद्ध है । ऐसा माना जाता है कि सोलहवीं शताब्दी (१६) के आरम्भ में  विदेशियों के द्वारा [[संस्कृत भाषा|संस्कृत]] का अध्ययन आरम्भ हुआ । अध्ययन आरम्भ होने के पश्चात इसकी प्रसिद्धि  सत्रहवीं शताब्दी के अन्त में और अठारवीं शताब्दी के आरम्भ में मानी जाती है । उस कालखण्ड में  [[भारत]] में  स्थित मातृकाग्रन्थों का अध्ययन एवं संरक्षण विविध संगठनों के द्वारा किया गया ।
 
पाण्डुलिपि (manuscript) उस दस्तावेज को कहते हैं जो एक व्यक्ति या अनेक व्यक्तियों द्वारा हाथ से लिखी गयी हो। जैसे हस्तलिखित पत्र। मुद्रित किया हुआ या किसी अन्य विधि से, किसी दूसरे दस्तावेज से (यांत्रिक/वैद्युत रीति से) नकल करके तैयार सामग्री को पाण्डुलिपि नहीं कहते हैं।
गुमनाम सदस्य