"हिन्दू धर्मग्रन्थ" के अवतरणों में अंतर

छो
revert vandalism editing
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
छो (revert vandalism editing)
टैग: प्रत्यापन्न
 
=== ब्राह्मण ===
इस श्रेणी के ग्रन्थ वेद के अंग ही माने जाते हैं। ये दो विभागों में विभक्त है। एक विभाग के कर्मकाण्ड-सम्बन्धी हैं, दूसरे विभाग के ज्ञानकाण्ड-सम्बन्धी है। ज्ञानकाण्ड-सम्बन्धी ब्राह्मण ग्रन्थ `उपनिषद्´ कहलाते हैं।
प्रत्येक ब्राह्मण ग्रन्थ में एक-न-एक उपनिषद् अवश्य है, किन्तु स्वतन्त्र उपनिषद् ग्रन्थ भी हैं, जो किसी भी ब्राह्मण का भाग नहीं हैं और न `अरण्यकों´ के ही भाग हैं। कुछ उपनिषद् अरण्यकों में भी पाये जाते हैं। ब्राह्मण ग्रन्थों में यज्ञ-विषय का वर्णन है। अरण्यकों में वानप्रस्थ-आश्रम के नियमों का वर्णन है। उपनिषदों में ब्रह्मज्ञान का निरूपण किया गया है।
प्रत्येक ब्राह्मण किसी न किसी वेद से सम्बन्ध रखता है। ऋग्वेद के ब्राह्मण -ऐतरेय और कौशीतकि (सामवेद के ब्राह्मण -ताण्डय, षड्विंश, सामविधान, वंश, आर्षेय, देवताध्याय, संहितोपनिषत्, छान्दोग्य, जैमिनीय, सत्यायन और भल्लवी है (कृष्ण यजुर्वेद का ब्राह्मण -तैत्तिरीय है और शुक्ल यजुर्वेद का शतपथ है (अथर्ववेद का ब्राह्मण - गोपथ ब्राह्मण है। ये कुछ मुख्य-मुख्य ब्राह्मणों के नाम हैं।
 
=== आरण्यक ===
[[रामायण]]<nowiki/>और [[महाभारत]] इन ग्रंथोंको इतिहास ग्रंथ माना जाता है। जबकि [[श्रीमद्भगवद्गीता]] महाभारत का ही अंश है, इसमें प्राप्त अमूल्य ज्ञानबोध के कारण इसको स्वतन्त्र ग्रंथकी मान्यता प्राप्त है।
 
श्री तुलसीदास द्वारा विरचित [[श्रीरामचरितमानस]] वैसे तो रामायण का हिंदी संस्करण ही है। लेकिन हिंदीभाषिकोंके लिये इसकी महत्ता धर्मग्रंथ जैसीही है।
 
=== विशिष्ट विषयों के ग्रंथ ===