"नवबौद्ध" के अवतरणों में अंतर

46 बैट्स् जोड़े गए ,  7 माह पहले
Reverted 1 edit by 103.240.234.65 (talk) (TwinkleGlobal)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(Reverted 1 edit by 103.240.234.65 (talk) (TwinkleGlobal))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
 
{{मुख्य|नवयान}}
'''नवबौद्ध''' (अंग्रेजी: ''Neo Buddhist'') यह झूठे[[भारत मक्कारोंसरकार]] एवं राज्य सरकारों द्वारा भारत मेंके धर्म परिवर्तित कर बौद्ध बने हुए लोगो के लिए इस्तेमाल किये जाने वाली एक झूठी"सरकारी बातसंज्ञा" हैं। तथापि भारतीय बौद्ध अनुयायि 'नवबौद्ध' नामक ग्रूप या समूदाय को नहीं मानते हैं, क्योंकि उनके अनुसार पारंपरिक बौद्ध तथा धर्म परिवर्तित बौद्ध लोगों की धार्मिक पहचान केवल '[[बौद्ध]]' ही रहती हैं।<ref>{{Cite web|url=https://maharashtratimes.indiatimes.com/maharashtra/nagpur-vidarbha-news/nagpur/nagpur-navbouddha-concept-is-wrong/articleshow/57103009.cms|title=‘नवबौद्ध’ संकल्पना चुकीची|date=12 फ़र॰ 2017|website=Maharashtra Times|access-date=29 मई 2019|archive-url=https://web.archive.org/web/20190529015801/https://maharashtratimes.indiatimes.com/maharashtra/nagpur-vidarbha-news/nagpur/nagpur-navbouddha-concept-is-wrong/articleshow/57103009.cms|archive-date=29 मई 2019|url-status=live}}</ref> नवबौद्धों को "आम्बेडकरवादि बौद्ध" भी कहां जाता हैं, क्योंकि वे सभी [[भीमराव आम्बेडकर]] की प्रेरणा से ही बौद्ध बने हुए होते हैं। कुल भारतीय बौद्धों में अधिकांश यानी 87% हिस्सा नवबौद्ध हैं। अन्य अनुमानो के अनुसार, भारत में भारत में नवबौद्धों की आबादी 5 से 7 करोड़ तक हैं।<ref>{{Cite web|url=https://navbharattimes.indiatimes.com/india/buddhists-to-benefit-the-government-will-change-the-format-of-caste-certificate/articleshow/52872090.cms|title=नव बौद्धों को लाभ देने के लिए जाति प्रमाणपत्र के प्रारूप में बदलाव लाएगी सरकार|date=22 जून 2016|website=Navbharat Times|access-date=29 मई 2019|archive-url=https://web.archive.org/web/20180805024646/https://navbharattimes.indiatimes.com/india/buddhists-to-benefit-the-government-will-change-the-format-of-caste-certificate/articleshow/52872090.cms|archive-date=5 अगस्त 2018|url-status=live}}</ref>
 
14 अक्तूबर 1956 के दिन भीमराव आम्बेडकर ने 5 लाख से अधिक अनुयायिओं को [[बौद्ध धम्म]] की दीक्षा दी थी। आम्बेडकर के नेतृत्व में हुई यह 1956 की बौद्ध क्रांति आज भी सक्रिय हैं। 1956 के सामूहिक धर्म परिवर्तन समारोह के बाद से अब तक के धर्म परिवर्तित बौद्ध बनेने वालों (नवबौद्धों) में अधिकांश लोग [[अनुसूचित जाति]] (एससी) से सम्बधित हैं।
15,389

सम्पादन