"पृथ्वीराज रासो": अवतरणों में अंतर

Reverted to revision 5135487 by Utcursch (talk) (TwinkleGlobal)
No edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(Reverted to revision 5135487 by Utcursch (talk) (TwinkleGlobal))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
[[चित्र:Prithviraj Raso.jpg|thumb|right|300px|'''पृथ्वीराज रासो''' के प्रथम खंड का द्वितीय संस्करण ([[काशी नागरी प्रचारिणी सभा]] द्वारा प्रकाशित)]]
'''पृथ्वीराज रासो''' [[हिन्दी|हिन्दी भाषा]] में लिखा एक [[महाकाव्य]] है जिसमें [[पृथ्वीराज चौहान]] के जीवन और चरित्र का वर्णन किया गया है। इसके रचयिता [[चंदबरदाई]]
[[चारण (जाति)|चारण]] पृथ्वीराज के बचपन के मित्र और उनके राजकवि थे और उनकी युद्ध यात्राओं के समय [[वीर रस]] की कविताओं से सेना को प्रोत्साहित भी करते थे। ११६५ से ११९२ के बीच [[पृथ्वीराज चौहान]] का राज्य [[अजमेर]] से [[दिल्ली]] तक फैला हुआ था।
 
"पृथ्वीराजरासो ढाई हजार पृष्ठों का बहुत बड़ा ग्रंथ है जिसमें ६९ समय (सर्ग या अध्याय) हैं। प्राचीन समय में प्रचलित प्रायः सभी [[छंद|छन्दों]] का इसमें व्यवहार हुआ है। मुख्य छन्द हैं - [[कवित्त]] ([[छप्पय]]), [[दूहा]] ([[दोहा]]), [[तोमर गोत्र (जाट)|तोमर]], [[त्रोटक]], [[गाहा]] और [[आर्या छन्द|आर्या]]। जैसे [[कादम्बरी]] के सम्बन्ध में प्रसिद्ध है कि उसका पिछला भाग [[बाण भट्ट]] के पुत्र ने पूरा किया है, वैसे ही पृथ्वीराजरासो के पिछले भाग का भी चंद के पुत्र [[जल्हण]] द्वारा पूर्ण किया गया है। रासो के अनुसार जब [[मोहम्मद ग़ोरी|शहाबुद्दीन गोरी]] पृथ्वीराज को कैद करके [[ग़ज़नी]] ले गया, तब कुछ दिनों पीछे चंद भी वहीं गए। जाते समय कवि ने अपने पुत्र जल्हण के हाथ में रासो की पुस्तक देकर उसे पूर्ण करने का संकेत किया। जल्हण के हाथ में रासो को सौंपे जाने और उसके पूरे किए जाने का उल्लेख रासो में है -
15,900

सम्पादन