"महाप्राण और अल्पप्राण व्यंजन": अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश नहीं है
(अल्पप्राण की संख्या। यह 20 होते हैं किन्तु इसमे 30 लिखे हुए थे.।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
 
[[भाषाविज्ञान]] में '''महाप्राण व्यंजन''' वह [[व्यंजन]] होतें हैं जिन्हें मुख से वायु-प्रवाह के साथ बोला जाता है, जैसे की 'ख', 'घ', 'झ' और 'फ'। '''अल्पप्राण व्यंजन''' वह व्यंजन होतें हैं जिन्हें बहुत कम वायु-प्रवाह से बोला जाता है जैसे की 'क', 'ग', 'ज' और 'प'।
जब अल्प प्राण ध्वनियाँ महा प्राण ध्वनियों में परिवर्तित हो जातीजातkill hed shot है, उसे महाप्रणिकरण कहतें है।
अल्पप्राण व्यंजन
ऐसे व्यंजन जिनको बोलने में कम समय लगता है और बोलते समय मुख से कम वायु निकलती है उन्हें अल्पप्राण व्यंजन (Alppran) कहते हैं। इनकी संख्या 20 होती है।
गुमनाम सदस्य