"जीण माता" के अवतरणों में अंतर

2,773 बैट्स् नीकाले गए ,  1 माह पहले
छो
Link Spamming/Promotional Links/Self Published Links
(जीण माता और औरंगज़ेब चमत्कार की कहानी प्राचीन समय में देवी जीण माता ने सबसे बड़ा चमत्कार मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब को दिखाया था। कि जब दिल्ली का बादशाह औरंगज़ेब ने शेखावाटी के मंदिरों को तोड़ने के लिए एक विशाल सेना भेजी थी। यह सेना हर्ष पर्वत पर शिव और हर्षनाथ भैरव का मंदिर खंडित कर जीण माता के मंदिर को खंडित करने आगे बढ़ी। उस समय हर्ष के मंदिर की पूजा गूजर लोग तथा जीणमाता के मंदिर की पूजा तिगाला जाट करते थे। उस समय बादशाह औरंगजेब की सेना ने जीण माता के मंदिर पर हमला किया लेकिन हमले के तुरन्त बाद ज)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन यथादृश्य संपादिका Reverted
छो (Link Spamming/Promotional Links/Self Published Links)
टैग: प्रत्यापन्न
 
{{clear}}
 
==सन्दर्भ==
==राजपूत परिवार में हुआ था जीणमाता का जन्म:==
[https://toprajasthani.com/2021/02/09/%E0%A4%AC%E0%A4%BE%E0%A4%AC%E0%A4%BE-%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%B5/ जीण]{{टिप्पणीसूची}}
==बाहरी कड़ियाँ==
==जीण माता और औरंगज़ेब चमत्कार की कहानी==
{{commonscat|Jeenmata|जीण माता}}
प्राचीन समय में देवी [https://toprajasthani.com/2021/05/04/%E0%A4%9C%E0%A5%80%E0%A4%A3-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%BE/ जीण माता] ने सबसे बड़ा चमत्कार मुग़ल बादशाह औरंगज़ेब को दिखाया था। कि जब दिल्ली का बादशाह औरंगज़ेब ने शेखावाटी के [https://toprajasthani.com/2021/04/17/%E0%A4%AC%E0%A5%80%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%87%E0%A4%B0-%E0%A4%95%E0%A5%87-%E0%A4%AE%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A4%BF%E0%A4%B0-temples-of-bikaner/ मंदिरों] को तोड़ने के लिए एक विशाल सेना भेजी थी। यह सेना हर्ष पर्वत पर शिव और हर्षनाथ भैरव का मंदिर खंडित कर जीण माता के मंदिर को खंडित करने आगे बढ़ी। उस समय हर्ष के मंदिर की पूजा गूजर लोग तथा जीणमाता के मंदिर की पूजा तिगाला जाट करते थे। उस समय बादशाह औरंगजेब की सेना ने जीण माता के मंदिर पर हमला किया लेकिन हमले के तुरन्त बाद जीणमाता की मक्खियों (भंवरों) ने बादशाह की सेना पर हमला बोल दिया। मक्खियों ने बादशाह की सेना का पीछा दिल्ली तक किया और सेना को बहुत नुकसान पहुँचाया। मधुमक्खियों के काटे जाने से सैनिक वह घोड़े बेहोशी की हालत में हो गए और मैदान छोड़कर भाग गए
 
तब औरंगज़ेब ने हारकर जब हर्ष और जीणमाता के चरणों में शीश नवाया और क्षमा याचना की। तब जाकर कहीं उसका पीछा छूटा यह जीण माता का एक बहुत बड़ा चमत्कार था{{commonscat|Jeenmata|जीण माता}}
*[https://web.archive.org/web/20190815034018/http://shyamparivar.com/jeenmata जीण माता मंदिर की अधिक जानकारी के लिए]
*[https://web.archive.org/web/20110726002834/http://ceorajasthan.nic.in/Census2001/DIST_SIKAR_DL006.PDF परिसीमन आयोग की रिपोर्ट]