"आरण्यक" के अवतरणों में अंतर

10 बैट्स् जोड़े गए ,  8 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
टैग: Reverted
{{स्रोतहीन|date=अगस्त 2012}}
{{हिंदू शास्त्र और ग्रंथ}}
{{सन्दूक हिन्दू धर्म}}
'''आरण्यक''' [[हिन्दू धर्म]] के पवित्रतम और सर्वोच्च ग्रन्थ [[वेद]]ों का गद्य वाला खण्ड है। ये वैदिक वाङ्मय का तीसरा हिस्सा है और वैदिक संहिताओं पर दिये भाष्य का दूसरा स्तर है। इनमें दर्शन और ज्ञान की बातें लिखी हुई हैं, कर्मकाण्ड के बारे में ये चुप हैं। इनकी भाषा [[वैदिक संस्कृत]] है। वेद, मंत्र तथा ब्राह्मण का सम्मिलित अभिधान है। मंत्रब्राह्मणयोर्वेदनामधेयम् (आपस्तंबसूत्र)। ब्राह्मण के तीन भागों में आरण्यक अन्यतम भाग है।
 
2,338

सम्पादन