"पाटण, गुजरात" के अवतरणों में अंतर

305 बैट्स् जोड़े गए ,  3 माह पहले
नेम बदला गया और जो जूठ था और सही समय बताने को कहा
छो (HISTORIAN MOHIT04 (Talk) के संपादनों को हटाकर Rana Nina के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(नेम बदला गया और जो जूठ था और सही समय बताने को कहा)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन Reverted
| subdivision_type = देश
| subdivision_name = {{flag|India}}
| subdivision_type1subdivision_t ype1 = [[राज्य]]
| subdivision_type2 = [[ज़िला|जिला]]
| subdivision_name1 = [[गुजरात]]
| established_date =
| founder = [[वनराज छावड़ा]]
।।अनहील भरवाड़ ।।
| named_for =
| government_type =
'''पाटण''' [[भारत]] के [[गुजरात]] प्रदेश का जिला एवं जिला-मुख्यालय है। यह एक प्राचीन नगर है जिसकी स्थापना ७४५ ई में [[वनराज छावडा]] ने की थी। राजा ने इसका नाम 'अन्हिलपुर पाटण' या 'अन्हिलवाड़ पाटन' रखा था। यह मध्यकाल में गुजरात की [[राजधानी]] हुआ करता था। इस नगर में बहुत से ऐतिहास स्थल हैं जिनमें हिन्दू एवं जैन मन्दिर, [[रानी की वाव]] आदि प्रसिद्ध हैं।
 
पाटण का प्राचीन नाम 'अण्हीलपुर ' है। प्राचीन समय में पाटण भीलभरवाड़ (भरू) प्रदेश के रूप में जाना जाता था [https://books.google.co.in/books?id=PaljAAAAMAAJ&q=%E0%A4%B5%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%9C+%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%BE+%E0%A4%AD%E0%A5%80%E0%A4%B2&dq=%E0%A4%B5%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%9C+%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%BE+%E0%A4%AD%E0%A5%80%E0%A4%B2&hl=hi&sa=X&ved=2ahUKEwiu2YfV-8LrAhWloekKHYOvA4AQ6AEwAHoECAQQAQ] , राजा अण्हील भीलअण्हीलभरवाड़ [https://books.google.co.in/books?id=PaljAAAAMAAJ&q=%E0%A4%B5%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%9C+%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%BE+%E0%A4%AD%E0%A5%80%E0%A4%B2&dq=%E0%A4%B5%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%9C+%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%BE+%E0%A4%AD%E0%A5%80%E0%A4%B2&hl=hi&sa=X&ved=2ahUKEwiu2YfV-8LrAhWloekKHYOvA4AQ6AEwAHoECAQQAQ] अण्हीलपुर के शासक थे । जब पचासर के चावड़ा गुर्जर अपना राज्य कल्याण कटक के चालुक्य भुहड़ से हार गए तब उनकी पत्नी अपने नन्हे बच्चे को लेकर भीलभरवाड़ (भरू) प्रदेश में शरण लेने आयी , जहां भीलोंभरवाड़ो ने उनकी सहायता करी और उस बच्चे को वनराज नाम दिया क्योंकि वह जंगल में भीलोंभरवाड़ों के साथ बड़ा हुआ था , आगे चलकर वहीं वनराज चावड़ा , राजा अण्हील भीलभरवाड़ के बाद अण्हीलपुर का शासक बना [https://books.google.co.in/books?id=JANuAAAAMAAJ&q=%E0%A4%B5%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%9C+%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%BE+%E0%A4%AD%E0%A5%80%E0%A4%B2&dq=%E0%A4%B5%E0%A4%A8%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%9C+%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%BE+%E0%A4%AD%E0%A5%80%E0%A4%B2&hl=hi&sa=X&ved=2ahUKEwiu2YfV-8LrAhWloekKHYOvA4AQ6AEwAXoECAEQAQ] ।
प्राचीन काल में इसे मुसलमानों ने खंडहर बना दिया था, उन्हीं खंडहरों पर पुन: नवीन पाटन ने प्रगति की है। महाराज भीम की रानी उद्यामती का बनवाया भवन खंडहर अवस्था में अब भी विद्यमान है। नगर के दक्षिण में एक प्रसिद्ध खान सरोवर है। एक जैन मंदिर में वनराजा की मूर्ति भी दर्शनीय है। नवीन पाटन [[मराठा]] लोगों के प्रयास का फल है। यह [[सरस्वती नदी]] से डेढ किमी की दूरी पर है। जैन मंदिरों की संख्या यहाँ एक सौ से भी अधिक है, परऔर येजैनों विशेषने कलात्मकअनहिल नहींभरवाड़ हैं।को [[खादी]]आभीर केभी व्यवसायकहा मेंहै इधरउनके शास्त्रों में काफीबताया उन्नतिगया हुईहै है।
पर ये विशेष कलात्मक हैं। [[खादी]] के व्यवसाय में इधर काफी उन्नति हुई है।
 
== इन्हें भी देखें==
बेनामी उपयोगकर्ता