"चुटकुला": अवतरणों में अंतर

17 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
छोNo edit summary
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
मनोवैज्ञानिकों और साहित्य पर अनुसन्धान करने वालों ने इस प्रश्न पर काफी गहराई से अध्ययन किया है कि चुटकुलों पर लोग बेबसी से हँसते क्यों हैं। इस विषय को लेकर बहुत से सूक्ष्म प्रश्न सामने आते हैं, जैसे कि ऐसा क्यों है के एक ही चुटकुला जब एक आदमी सुनाये तो लोग हँसते हैं लेकिन दूसरा सुनाये तो नहीं हँसते? यह माना जाता है के कई चुटकुलों में तनाव के उतार-चढ़ाव का बहुत महत्वपूर्ण योगदान है। जैसे कि एक चुटकुला है कि -
:
:#"दो पागल पागलख़ाने से फ़रार हो गए। पुलिस उन्हें ढूँढती-ढूँढती थक गयी, तब कहीं जा कर उनमे से एक हाथ आया।
:पुलिसवाले ने उस से पूछा - "भई, तेरा साथी कहाँ है?"
:उसने कहा - "दरअसल वो भागा था, मैं तो उसे वापस लाने उसके पीछे भागा था।"
:पुलीसवाले ने कहा - "अरे! तू तो बिलकुल पागल नहीं लगता। हम पागलख़ाने से बात कर के तुझे रिहा करवा लेंगे। अच्छा, तो बता वो गया कहाँ? निकलते ही भाग गया क्या?"
:पागल ने कहा - "नहीं, नदी में गीला हो गया था न, इसलिए मैंने उसे सूखने के लिए लटका दिया।"
 
:'''पप्पू''': ''आई लव यू''.,'''पप्पू''': तुम मुझसे कितना प्यार करती हो? '''पिंकी''': जितना तुम करते हो.'''पप्पू''': अच्छा बेटी, मतलब तू भी बस टाइम पास कर रही थी.
:#'''पप्पू''': ''आई लव यू''
:डॉक्टर - रात में टेंशन लेकर नहीं सोना चाहिए! मरीज - तो क्या मायके भेज दें...
:'''पप्पू''': ''आई लव यू''.,'''पप्पू''': तुम मुझसे कितना प्यार करती हो? '''पिंकी''': जितना तुम करते हो.'''पप्पू''': अच्छा बेटी, मतलब तू भी बस टाइम पास कर रही थी.
:सुरेश सूट सिलवाने दर्जी के पास गया। दर्जी ने कपड़ा नापा और बोला : " कपड़ा कम है। " वो दूसरे दर्जी के पास चला गया।
 
:#डॉक्टर - रात में टेंशन लेकर नहीं सोना चाहिए! मरीज - तो क्या मायके भेज दें...
 
:#सुरेश सूट सिलवाने दर्जी के पास गया। दर्जी ने कपड़ा नापा और बोला : " कपड़ा कम है। " वो दूसरे दर्जी के पास चला गया।
:उसने नाप लेने के बाद कहा : " आप 2 दिन बाद सूट ले जाइए। " दो दिन बाद सुरेश सूट लिया और पैसे दे रहा था कि, दर्जी का 5 साल का लड़का आ गया। उसने भी बिल्कुल उसी कपड़े का सूट पहन रखा था। सुरेश पहले वाले दर्जी के पास गया और बोला :" तुम तो कहते थे कि, कपड़ा कम है, लेकिन उस दूसरे दर्जी ने उसी कपड़े से न केवल मेरा, बल्कि अपने लड़के का भी सूट बना लिया। " दर्जी बोला : 'वाको छोरो 5 साल को है और मारो 13 साल को।'
 
:
:"#'''स्टोरकीपर'''- चीनी यहाँ नहीं मिलती ? '''सरदार'''- हम पागल नहीं हैं, पढ़ें लिखे हैं,दवा पर लिखा है शुगर फ्री (Sugar free) चीनी तो तुम्हारा बाप भी देगा हाँ"
:'''सरदार'''- हम पागल नहीं हैं, पढ़ें लिखे हैं,दवा पर लिखा है शुगर फ्री (Sugar free). चीनी तो तुम्हारा बाप भी देगा हाँ"
 
इस लतीफ़े में शुरू में पागलों के भाग उठने से तनाव पैदा होता है। और फिर लगता है के यह तो पागल है ही नहीं, इसलिए तनाव कम होता है लेकिन थोड़ा सा शक़ बना रहता है। और फिर एकदम से तनाव फिर से भड़क उठता है। किसी भी लतीफ़े में यह ज़रूरी है के तनाव का यह उतार-चढ़ाव आकस्मिक लगे, यानि जहां तनाव बढ़ने कि उम्मीद हो वहाँ उल्टा घट जाए और जहां घटने कि संभावना लगे वहां उल्टा बढ़ जाए। अच्छे चुटकुला सुनाने वाले इस तनाव के बहाव को अपने नियंत्रण में रखते हैं। कुछ लतीफ़ों में तनाव का इतना उतार-चढ़ाव नहीं होता लेकिन उनमें भी उम्मीद से कुछ विपरीत होता है जो व्यंग्यपूर्ण ढंग से चौंका जाए।
गुमनाम सदस्य