"शृंगेरी शारदा पीठम": अवतरणों में अंतर

59 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
आदि शंकराचार्य जी महाभाग का जन्म ईश्वरी सन से ५०७ वर्ष पूर्व ( कलि संवत २५९५ ) को हुआ था। और वे ३२ वर्ष की आयु पूर्ण कर अपने धिम को चले गये थे। इसी बीच की अवधि में उन्होंने चारों मठों को स्थापित किया और वेद तथा वेदांत ( उपनिषदों ) पर भाष्य लिखे। 🙏
छो (223.185.234.203 (Talk) के संपादनों को हटाकर Sanjeev bot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत...)
टैग: वापस लिया
(आदि शंकराचार्य जी महाभाग का जन्म ईश्वरी सन से ५०७ वर्ष पूर्व ( कलि संवत २५९५ ) को हुआ था। और वे ३२ वर्ष की आयु पूर्ण कर अपने धिम को चले गये थे। इसी बीच की अवधि में उन्होंने चारों मठों को स्थापित किया और वेद तथा वेदांत ( उपनिषदों ) पर भाष्य लिखे। 🙏)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
|}
[[Image:Vidyashankara Temple at Shringeri.jpg|thumb|300px|शृंगेरी का विद्याशंकर मन्दिर]]
'''शृंगेरी शारदा पीठ''' [[आदि शंकराचार्य|आदि गुरु शंकराचार्य]] द्वारा ८वींइसाई शताब्दीसन से ५०७ वर्ष पूर्व श्ब्दी्ब् में भारतवर्ष में स्थापित [[हिन्दू धर्म]] की चार पीठों में से दक्षिण पीठ है। यह [[कर्नाटक]] राज्य के चिकमंगलुर जिले में [[तुंगा नदी]] के तीर पर स्थित है। शृंगेरी पीठ के आचार्यों में श्री सुरेश्वराचार्य, श्री अभिनव नृसिंह भारती, श्री सच्चिदानंद भारती, श्री चंद्रशेखर भारती, श्री भारतीतीर्थ आदि ने शृंगेरी को अत्यंत दर्शनीय बना दिया है।
 
==सन्दर्भ==
गुमनाम सदस्य