"पुरूवास" के अवतरणों में अंतर

720 बैट्स् जोड़े गए ,  11 माह पहले
No edit summary
टैग: Reverted
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
==पृष्ठभूमि==
पोरस पर उपलब्ध एकमात्र जानकारी यूनानी स्रोतों से है इतिहासकारों ने हालांकि तर्क दिया है कि उनके नाम और उनके डोमेन के स्थान पर आधारित पोरस को ऋगवेद में उल्लेखित पुरू जनजाति के वंशज होने की संभावना थी। इतिहासकार [[ईश्वरी प्रसाद]] ने कहा कि पोरस यदुवंशी शोरसेनी हो सकता था। उन्होंने तर्क दिया कि पोरस के मोहरा सैनिकों ने हेराकल्स का एक बैनर जिसे मेगस्थनीज़ ने देखा था, जो पोरस के बाद भारत की यात्रा पर चन्द्रगुप्त द्वारा मथुरा के शोरसैनियों के साथ स्पष्ट रूप से पहचाने गए थे। मेगास्थनीज़ और एरियन के हेराकल्स कुछ विद्वानों द्वारा कृष्ण के रूप में और अन्य लोगों द्वारा उनके बड़े भाई बलदेव के रूप में पहचाने गए हैं, जो शूरसेनी के पूर्वजों और संरक्षक देवताओं दोनों थे। ईश्वरी प्रसाद और अन्य, उनकी अगुवाई के बाद, इस निष्कर्ष का अधिक समर्थन इस तथ्य में पाया गया कि शूरसेनियों का एक हिस्सा कृष्ण के निधन के बाद पंजाब और आधुनिक अफगानिस्तान से [[मथुरा]] से [[द्वारका]] के लिए पश्चिम की ओर पलायन कर रहा था और वहां नए राज्य स्थापित किए थे।
 
जाटों में एक पोरस गौत्र भी है जो अपने आप को राजा पोरस का वंशज कहते हैं। जाटों के इस गौत्र से कुछ बड़ी जमींदारी के मालिक भी रहे हैं जिनके किले हवेली आज भी मौजूद है। सब इतिहासकार इस बात पर सहमत है कि पोरस राजा पोरस का वंश था नाम नहीं। राजा पोरस का नाम राजा पुरुषोत्तम बताया जाता है।
 
==अलेक्जेंडर द ग्रेट से लडाई==
30

सम्पादन