"अश्वत्थामा": अवतरणों में अंतर

197 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
छो (fix)
टैग: Reverted
No edit summary
टैग: Reverted
[[क्रपी]] [[माता]]|राजवंश=|मुख्य शस्त्र=[[धनुष]] [[बाण]]|उत्त्पति स्थल=|नाम=अश्वत्थामा|संदर्भ ग्रंथ=[[महाभारत]] [[पुराण]]|देवनागरी=|अन्य नाम=द्रोण पुत्र,|width2=|Caption=[[नारायण अस्त्र ]] का प्रयोग करते हुए अश्वत्थामा|Image=Ashwatthama uses Narayanastra.jpg|मित्रता=}}
 
महाभारत युद्ध से पुर्व गुरु द्रोणाचार्य अनेक स्थानो में भ्रमण करते हुए हिमालय (ऋषिकेश) प्‌हुचे। वहाँ तमसा नदी के किनारे एक दिव्य गुफा में तपेश्वर नामक स्वय्मभू शिवलिंग है। यहाँ गुरु द्रोणाचार्य और उनकी पत्नी माता कृपि ने शिव की तपस्या की। इनकी तपस्या से खुश होकर भगवान शिव ने इन्हे वरदान देते हुए कहा था कि वें उनके घर पुत्र प्राप्तिके कारूप वरदानमें दिया।जन्म लेंगें । कुछ समय बाद माता कृपि ने एक सुन्दर तेजश्वी बाल़क को जन्म दिया। जन्म ग्रहण करते ही इनके कण्ठ से हिनहिनाने की सी ध्वनि हुई जिससे इनका नाम अश्वत्थामा पड़ा। जन्म से ही अश्वत्थामा के मस्तक में एक अमूल्य मणि विद्यमान थी। जो कि उसे दैत्य, दानव, शस्त्र, व्याधि, देवता, नाग आदि से निर्भय रखती थी। अश्वत्थामा भगवान शिव के २०वें अवतार थे |
महाभारत युद्ध के समय गुरु द्रोणाचार्य जी ने हस्तिनापुर (मेरठ) राज्य के प्रति निष्ठा होने के कारण कौरवों का साथ देना उचित समझा। अश्वत्थामा भी अपने पिता की तरह शास्त्र व शस्त्र विद्या में निपूण थे। महाभारत के युद्ध में उन्होंने सक्रिय भाग लिया था। महाभारत युद्ध में ये कौरव-पक्ष के एक सेनापति थे। उन्होंने घटोत्कच पुत्र अंजनपर्वा का वध किया। उसके अतिरिक्त द्रुपदकुमार, शत्रुंजय, बलानीक, जयानीक, जयाश्व तथा राजा श्रुताहु को भी मार डाला था। उन्होंने कुंतीभोज के दस पुत्रों का वध किया। पिता-पुत्र की जोड़ी ने महाभारत युद्ध के समय पाण्डव सेना को तितर-बितर कर दिया। पांडवों की सेना की हार देख़कर श्रीकृष्ण ने युधिष्ठिर से कूटनीति सहारा लेने को कहा। इस योजना के तहत यह बात फेला दी गई कि "अश्वत्थामा मारा गया"
गुमनाम सदस्य