"शंकर कुमार सान्याल": अवतरणों में अंतर

No edit summary
==शैक्षणिक उपलब्धियाँ==
बी.ए., एल.एल बी.[[कोलकाता विश्वविद्यालय]], डी. लिट, एफ.आर.एस.ए (लंदन), एम.एस.आर.डी ([[बर्मिंघम]]),
फेलो आफ रॉयल सोसाइटी ऑफ आर्ट्स (FRSA), [[लंदन]]. वर्ष 1975 में कला, निर्माण और वाणिज्य के प्रोत्साहन के लिए
मैनेजिंग सस्टनेबिल रुरल डेवलेपमेंट ('सतत ग्रामीण विकास प्रबंधन), बर्मिंघम यूनिवर्सिटी, यूके. भारत सरकार की छात्रवृत्ति पर एक शीर्ष स्तरीय प्रबंधन पाठ्यक्रम.वर्ष 1995. मानद उपाधि, डी. लिट ( डॉक्टर ऑफ लेटर्स) [[उत्तर प्रदेश]] के माननीय [[राज्यपाल]] श्री [[राम नाइक]] के शुभ हाथों से प्राप्त हुई जो गांधीवादी सिद्धांतों और मूल्यों की दिशा में लोगों, विशेष तौर से नवयुवकों को, बहुआयामी कार्यक्रमों के माध्यम से गतिशील एवं प्रेरित करने के काम को मान्यता प्रदान करने हेतु [[शोभित विश्वविद्यालय]] द्वारा दी गयी.
 
==उन्मुखीकरण==
1964 में छात्र परिषद में शामिल हुए और इसके जिला सचिव बने, कलकत्ता विश्वविद्यालय लॉ कॉलेज छात्र परिषद के महासचिव और फिर राज्य संगठन के उपाध्यक्ष बने।
760

सम्पादन