"शंकर कुमार सान्याल" के अवतरणों में अंतर

 
==व्यवसाय==
*अधिवक्ता, [[कलकत्ता]] [[उच्च न्यायालय]], प्रबंधन और औद्योगिक सलाहकार
*अध्यक्ष, अखिल भारतीय [[हरिजन सेवक संघ]], [[दिल्ली]] ( एचएसएस ) महात्मा गांधी द्वारा 1932 में स्थापित एक राष्ट्रीय स्तर का स्वैच्छिक संगठन, जो दलितों के सामाजिक-आर्थिक और सामाजिक-सांस्कृतिक उत्थान के लिए स्थापित किया गया और जिसने शोषित वंचित वर्ग के लिए देश भर में विभिन्न शैक्षिक ,कल्याणकारी और ग्रामीण विकास परियोजनाओं के माध्यम से उल्लेखनीय सफल कार्य किया है. सार्वभौमिक रूप से प्रशंसित ये पद कभी श्री जी डी बिड़ला, माता रामेश्वरी नेहरू, श्री वियोगी हरि जी, पद्मविभूषण निर्मला देशपांडे और देश के अन्य गांधीवादी राष्ट्रीय नेताओं द्वारा सुशोभित रहा। संयोग से यह पहली बार है जब कोई (बंगाल )उत्तर पूर्वी भारत से इस उच्च पद पर चुना गया है।
*अध्यक्ष, [[अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद]] (एबीपीसीपी) की स्थापना 1956 में हुई.अनेक प्राकृतिक चिकित्सा संस्थानों और हजारों डॉक्टरों का ये राष्ट्रीय परिसंघ है जो 300 से अधिक प्राकृतिक चिकित्सा केंद्रों के अपने विशाल नेटवर्क द्वारा पूरे देश में आम लोगों को प्राकृतिक उपचार की सेवा प्रदान करने का काम कर रहा है।
*सदस्य, गांधी स्मृति और दर्शन समिति, [[राजघाट]] (जी एस डी एस) –भारत के प्रधान मंत्री की अध्यक्षता में संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार का एक स्वायत्त निकाय।
*अध्यक्ष, [[गांधी स्मारक निधि]], बंगाल गांधी स्मारक निधि, राजघाट, दिल्ली की बंगाल राज्य शाखा, जो गांधीवादी मॉडल पर एक ग्रामीण विकास संस्थान है.
*अध्यक्ष, कस्तूरबा बालिका विद्यालय, ईश्वरनगर, नई दिल्ली,1944 में महात्मा गांधी द्वारा स्थापित, दिल्ली सरकार द्वारा मान्यता एवं सहायता प्राप्त (सीबीएसई से संबद्ध माध्यमिक विद्यालय) जो बालिकाओं को गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा दे रहा है.
*अध्यक्ष, ठक्कर बापा विद्यालय समिति, टी नगर, चेन्नई –यह 1933 में महात्मा गांधी द्वारा स्थापित चैरिटेबल ट्रस्ट है जो औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आईटीआई), कामकाजी महिला छात्रावास और अन्य सामाजिक कल्याण की गतिविधियों को संचालित कर रहा है।
*उपाध्यक्ष, विद्याश्रम –78 से अधिक वर्षो का इतिहास समेटे उत्तर बंगाल का एक अग्रणी गांधीवादी संगठन।
*उपाध्यक्ष, श्री अग्रसेन कॉलेज कलकत्ता विश्वविद्यालय के अंतर्गत पहला स्व-वित्त पोषित कॉलेज जो 150 वर्षों के गौरव शाली इतिहास की धरोहर है.
*उपाध्यक्ष, [[भारतीय लोक प्रशासन संस्थान]] (आईआईपीए), हावड़ा शाखा।
*महासचिव, ग्रामीण विकास संघ (आरडीसी), - महान क्रांतिकारी नेता और बाद में गांधीवादी सुधारक स्वर्गीय पन्नालाल दासगुप्ता द्वारा स्थापित यह संगठन पूर्वी भारत का एक सहायता, सेवा और प्रशिक्षण का अग्रणी नेटवर्किंग संस्थान है।
*महासचिव, श्री चैतन्य महाप्रभु -जन मंच, सार्वभौमिक प्रेम, भाईचारे, शांति को बढ़ावा देने और जाति, पंथ, आर्थिक पदानुक्रम और धार्मिक झुकाव से प्रभावित लोगों को एकजुट करके सामाजिक उन्नयन हेतु बना एक राष्ट्रीय नेटवर्क।
*सदस्य, कार्यकारी समिति, संयुक्त राष्ट्र संघ का पश्चिम बंगाल संघ, संयुक्त राष्ट्र संघ के विश्व संघ- जिनेवा एवं इसके भारतीय संघ- नई दिल्ली से संबद्ध,इसकी सदस्यता संयुक्त राष्ट्र संघ के सलाहकार की श्रेणी की है. ये विशेष रूप से सूचना और ज्ञान के प्रसार के लिए समर्पित है। संयुक्त राष्ट्र के सिद्धांतों और उद्देश्यों के बारे में इसके चार्टर में उल्लेख किया गया है।
*सदस्य, मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति (डीआरयूसीसी), पूर्वी रेलवे, भारत सरकार।
 
==अनुभव और सामाजिक जिम्मेदारियां==
*पश्चिम बंगाल के राज्यपाल द्वारा वर्ष 1972 में जस्टिस ऑफ द पीस (जे.पी.) पर नियुक्ति की गयी ।
760

सम्पादन