"शंकर कुमार सान्याल" के अवतरणों में अंतर

 
==प्रमुख उपलब्धियां==
[[चित्र:Mother_teresa_and_shankar.jpg|अंगूठाकार| [[मदर टेरेसा]] और गांधीवादी विचारक [[सुब्बाराव]] जी के साथ श्री [[शंकर कुमार सान्याल]] [[अध्यक्ष]] [[हरिजन सेवक संघ]]।]]
*1984 में ईस्टर्न ज़ोन के रचनात्मक कार्यकर्ताओं का क्षेत्रीय उन्मुखीकरण पाठ्यक्रम आरम्भ किया, जिसमें शांति के लिए नोबल पुरस्कार विजेता मदर टेरेसा, की भव्य उपस्थिति रही ।
 
*अखिल भारतीय रचनात्मक समाज के तत्वावधान में दक्षिण एशिया शांति सम्मेलन एवं अखिल भारत रचनात्मक कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन 18 से 20 जनवरी, 2000 तक साल्ट लेक स्टेडियम, कलकत्ता में किया जिसमें देश और विदेश से 12 हजार से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया। कलकत्ता में यह अपनी तरह का पहला कार्यक्रम था.
*[[1984]] में ईस्टर्न ज़ोन के रचनात्मक कार्यकर्ताओं का क्षेत्रीय उन्मुखीकरण पाठ्यक्रम आरम्भ किया, जिसमें शांति के लिए [[नोबल पुरस्कार]] विजेता [[मदर टेरेसा]], की भव्य उपस्थिति रही ।
*अखिल भारतीय रचनात्मक समाज के तत्वावधान में दक्षिण एशिया शांति सम्मेलन एवं अखिल भारत रचनात्मक कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन 18 से 20 जनवरी, 2000 तक साल्ट लेक स्टेडियम, [[कलकत्ता]] में किया जिसमें देश और विदेश से 12 हजार से अधिक प्रतिनिधियों ने भाग लिया। कलकत्ता में यह अपनी तरह का पहला कार्यक्रम था.
*कई युवा नेतृत्व प्रशिक्षण शिविरों और उन्मुखीकरण पाठ्यक्रमों का आयोजन किया।ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम के अंतर्गत अनेक ग्रामीण युवा उद्यमियों के लिए सफलतापूर्वक प्रशिक्षण का आयोजन किया .बाद में उद्यमिता विकास कार्यक्रम के अंतर्गत खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी), भारत सरकार द्वारा प्रायोजित प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत 2005-2006 से 2012-2013 तक 1,784 उद्यमियों को प्रशिक्षित किया गया.ये 50,42,90,407.00 रूपये की धन राशि द्वारा राष्ट्रीयकृत बैंकों द्वारा वित्तपोषित हुए. प्रशिक्षित युवाओं ने ने अपनी-अपनी इकाइयां स्थापित की हैं जिनमें जरी कढ़ाई, रेडीमेड वस्त्र, बढ़ईगिरी, सिलाई, ग्रिल द्वारा गेट निर्माण , ब्यूटी पार्लर, धान से चावल बनाना , चांदी के आभूषण निर्माण, बिजली के बल्ब, खाद्य सामग्रियों से विभिन्न खाद्य उत्पाद बनाना जैसे लघु उद्योग शामिल हैं।
*पश्चिम बंगाल के [[बीरभूम]], [[मेदिनीपुर]], [[मुर्शिदाबाद]] और [[मालदा]] जिलों में 5,31,018 बेहतर धुंआ रहित चूल्हों की स्थापना, खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी), भारत सरकार के गैर-पारंपरिक ऊर्जा स्रोत मंत्रालय के अंतर्गत की गयी
*गरीबी रेखा से नीचे के परिवारों के लिए 595 कम लागत वाले शौचालयों और 95 कम लागत वाले ग्रामीण घरों के निर्माण की व्यवस्था कपार्ट के सहयोग से की गयी ।
* अनेक राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सेमिनारों और सम्मेलनों में पश्चिम बंगाल के विभिन्न समूहों का नेतृत्व किया। इसमें पंजाब के अलगाववादी आंदोलन के शमन हेतु , जुलाई 1983 में पंजाब में राष्ट्रीय एकता शांति मार्च अभियान में एक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करना भी शामिल है
ऊना (गुजरात), मुजफ्फरनगर, सहारनपुर (उत्तर प्रदेश) और संघर्ष की स्थितियों में अन्य विवादित अशांत क्षेत्रों में गांधीवादी शांति मिशन टीम को भेजा जिन्होंने स्थानीय नेताओं को लेकर दोनों समूहों की स्थानीय आबादी के साथ बातचीत करके शांति और सद्भाव बहाल करने की कोशिश की। ।
*गांधी आश्रम, दिल्ली में अखिल भारतीय गांधीवादी रचनात्मक कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन 25 और 26 नवंबर 2018 को किया गया जो 2019 में महात्मा गांधी और कस्तूरबा की 150 वीं जयंती की तैयारी के एक भाग के रूप में 12 साल के लंबे अंतराल के बाद अपनी तरह का पहला सम्मेलनथा. इसका उद्घाटन भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम वेंकैया नायडू ने किया इस सम्मेलन में देश और विदेश के विभिन्न दूरस्थ क्षेत्रों से 5000 गांधीवादी रचनात्मक कार्यकर्ताओं, युवाओं और विभिन्न क्षेत्रों के अनेक गणमान्य व्यक्तियों ने भाग लिया।इसके समापन सत्र को भारत के माननीय राष्ट्रपति, रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में संबोधित किया जिसमे पूरे देश के प्रमुख गांधीयन कार्यकर्त्ता ,नेतृत्व कर्ता उपस्थित रहे.
* दिल्ली में माता कस्तूरबा पर संग्रहालय (बा के जीवन और गतिविधियों पर एक संग्रहालय), "कस्तूरबा कुटीर" को महात्मा गांधी द्वारा उद्योगशाला में परिवर्तित कर दिया गया था और योग केंद्र भी जो कालांतर में बहुत समय पहले निष्क्रिय हो चुका था। पुनर्निर्मित कस्तूरबा कुटीर का उद्घाटन 7 जुलाई 2017 को भारत के तत्कालीन माननीय उपराष्ट्रपति श्री [[हामिद अंसारी]] ने महात्मा गांधी जी की प्रपौत्री सुश्री तारा गांधी भट्टाचार्य और अन्य की भव्य उपस्थिति में किया। पुनर्निर्मित उद्योगशाला को संघ के सहयोग से टेक महिंद्रा स्मार्ट एकेडमी फॉर हेल्थकेयर द्वारा एक कौशल विकास प्रशिक्षण संस्थान के रूप में पुनर्जीवित किया गया. यहाँ युवाओं से न्यूनतम शुल्क लेकर उनका कौशल प्रशिक्षण निरंतर संचालित है जो युवाओं को विभिन्न प्रतिष्ठित स्वास्थ्य देखभाल संस्थानों में रोजगार दिलाने(प्लेसमेंट ) का कार्य भी कुशलता से करता है.गांधी आश्रम, किंग्सवे कैंप में महात्मा गांधी योग केंद्र के नवीनीकरण की भी पहल की गयी । इस योग केंद्र की स्थापना युवाओं को योग प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए की गई जिसका उद्घाटन 25 नवंबर 2018 को भारत के माननीय उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने किया ।
*अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्थापित व प्रशंसित कथाकार, पूज्य [[मोरारी बापू]] द्वारा 9-दिवसीय 'मानस-हरिजन' गांधी कथा का आयोजन 24 सितंबर - '[[सद्भावना दिवस]]' (ऐतिहासिक [[पूना पैक्ट]] दिवस) से 2 अक्टूबर 2019 तक - गांधीजी की 150 वीं जयंती पर आयोजित किया गया । गांधी आश्रम का पवित्र स्थान,पर आयोजित कथा में लगभग 8,000 लोग शामिल हुए. इसका उद्घाटन भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने किया। कथा में परम पावन [[दलाई लामा]]जी, पूज्य योग ऋषि स्वामी रामदेवजी, पूज्य स्वामी चिदानंद सरस्वतीजी, अध्यक्ष, [[परमार्थ निकेतन]], संस्थापक / अध्यक्ष, ग्लोबल इंटरफेथ वाश एलायंस और अन्य देश विदेश के अंतर-धार्मिक नेताओं, विद्वानों, बुद्धिजीवियों, शिक्षाविदों आदि ने भाग लिया। इसका समापन सत्र भारत के पूर्व राष्ट्रपति, भारत रत्न, प्रणब मुखर्जी जी द्वारा कस्तूरबा कुटीर में संबोधित हुआ ।
 
==साहित्यिक गतिविधियाँ==
*संपादक, जातीय समचिंतन -1986 से कला, संस्कृति और साहित्य पर अग्रणी साहित्यिक बंगाली पत्रिका. इसके अतिरिक्त प्रमुख अन्य पत्र, पत्रिकाओं, जर्नल्स में विकास और राष्ट्रीय समस्याओं सहित विभिन्न मुद्दों पर लेखन।
760

सम्पादन