"अजमेर": अवतरणों में अंतर

253 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश नहीं है
(→‎इतिहास: जानकारी)
छोNo edit summary
 
==इतिहास==
अजमेर को मूल रूप से अजयमेरु के नाम से जाना जाता था। इस शहर की स्थापना ११वीं सदी के चहमण राजा अजयदेव ने की थी। इतिहासकार [[दशरथ शर्मा]] ने नोट किया कि शहर के नाम का सबसे पहला उल्लेख [[पल्हा की पट्टावली]] में मिलता है, जिसे १११३ सीई (११७० वी.एस.) में धारा में कॉपी किया गया था। इससे पता चलता है कि अजमेर की स्थापना 1113 ई. से कुछ समय पहले हुई थी।<ref>{{Cite book|url=https://books.google.co.in/books?id=n4gcAAAAMAAJ&redir_esc=y|title=Early Chauhān Dynasties: A Study of Chauhān Political History, Chauhān Political Institutions, and Life in the Chauhān Dominions, from 800 to 1316 A.D.|last=Sharma|first=Dasharatha|date=1975|publisher=Motilal Banarsidass|isbn=978-0-8426-0618-9|language=en}}</ref> विग्रहराज चतुर्थ द्वारा जारी एक प्रशस्ति (स्तुति संबंधी शिलालेख), और [[अढाई दिन का झोपड़ा]] में पाया गया, कहता है कि अजयदेव (अर्थात् अजयराज द्वितीय) ने अपना निवास अजमेर स्थानांतरित कर दिया।
 
एक बाद के पाठ प्रबंध-कोशा में कहा गया है कि यह 8 वीं शताब्दी के राजा अजयराज प्रथम थे जिन्होंने अजयमेरु किले को चालू किया था, जिसे बाद में अजमेर के [[तारागढ़ का दुर्ग|तारागढ़]] किले के रूप में जाना जाने लगा।<ref>{{Cite book|url=https://books.google.co.in/books?id=TKs9AAAAIAAJ&redir_esc=y|title=History of the Chāhamānas|last=Singh|first=R. B.|date=1964|publisher=N. Kishore|language=en}}</ref>  इतिहासकार आर.बी. सिंह के अनुसार, यह दावा सत्य प्रतीत होता है, क्योंकि 8वीं शताब्दी सीई के शिलालेख अजमेर में पाए गए हैं।  सिंह का मानना ​​है कि अजयराज द्वितीय ने बाद में नगर क्षेत्र का विस्तार किया, महलों का निर्माण किया, और चाहमना राजधानी को शाकंभरी से अजमेर में स्थानांतरित कर दिया।
 
एक बाद के पाठ प्रबंध-कोशा में कहा गया है कि यह 8 वीं शताब्दी के राजा अजयराज प्रथम थे जिन्होंने अजयमेरु किले को चालू किया था, जिसे बाद में अजमेर के तारागढ़ किले के रूप में जाना जाने लगा।  इतिहासकार आर.बी. सिंह के अनुसार, यह दावा सत्य प्रतीत होता है, क्योंकि 8वीं शताब्दी सीई के शिलालेख अजमेर में पाए गए हैं।  सिंह का मानना ​​है कि अजयराज द्वितीय ने बाद में नगर क्षेत्र का विस्तार किया, महलों का निर्माण किया, और चाहमना राजधानी को [[शाकंभरी]] से अजमेर में स्थानांतरित कर दिया।<ref>{{Cite book|url=https://books.google.co.in/books?id=TKs9AAAAIAAJ&redir_esc=y|title=History of the Chāhamānas|last=Singh|first=R. B.|date=1964|publisher=N. Kishore|language=en}}</ref>
 
११९३ में, अजमेर को दिल्ली सल्तनत के मामलुक्स द्वारा कब्जा कर लिया गया था, और बाद में श्रद्धांजलि की शर्त के तहत राजपूत शासकों को वापस कर दिया गया था।
 
==दर्शनीय स्थल तथा स्मारक==
शहर अपने कई पुराने स्मारकों जैसे कि ब्रह्मा मंदिर(विश्व में एकमात्र) तेजगढ़ किला, अढ़ाई-दीन का-झोंपराझोपड़ा, मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह और जैन मंदिर पुष्कर झील, आदि के लिए प्रसिद्ध है। भारत के नक्शे में अजमेर की महत्वपूर्ण भूमिका है। ऐतिहासिक अजमेर भारत और विदेश से तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करता है। अजमेर धर्म और संस्कृतियों की परंपराओं के साथ रहता है।
कुछ प्रसिद्ध स्थान:
*[[पुष्कर]]
2,502

सम्पादन