"संवत": अवतरणों में अंतर

10 बाइट्स जोड़े गए ,  1 वर्ष पहले
छो
110.172.131.198 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4063:4093:66F0:0:0:2083:C0B1 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
छो (110.172.131.198 (Talk) के संपादनों को हटाकर 2409:4063:4093:66F0:0:0:2083:C0B1 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
|}
== लोधी संवत ==
[[लोधी संवत]] जिस तरह न्यायप्रिय शासक महाराज [[विक्रमादित्य]] के समय [[विक्रम संवत]] का उल्लेख मिलता है। उसी तरह महाराज विक्रमादित्तय के बाद महाराज ब्रहा्रस्वरुप लोधी के राज्याभिषेक के समय प्रारंभ हुआ था। लोधी संवत का उल्लेख अब से 1832 वर्ष पूर्व (अर्थात 160 ई॰ पु॰) राज सिंहासन पर विराजमान राजा शालिवाहन ने, मैसूर के मुम्मड़े नामक नगर में शिलालेख में उत्कीर्ण कराया था।
 
यह शिलालेख प्राकृत, संस्कृत, पाली तथा तेलगू भाषा में उत्कीर्ण है। इस में महाराज विक्रमादित्य के पश्चात महाराज ब्रहा्रस्रुप लोधी के राज्यारोहरण पर लोधी संवत के उसके राज्य में प्रचलन का वर्णन खुदा हुआ है। लोधी संवत की प्रारंभ तिथि के बारे में विद्वानों के मत अलग-अलग है। पं. काशीलाल जायसवाल, जुगल किशोर मुख्तार, डा॰ हेमन्त जेकोवी इन सभी के मतों का समाधान करते हुए, जार्ज जामान्टियर ने ब्रहा्रस्वरुप लोधी के राज्याभिषेक को ही प्रमाण मानकर लोधी संवत का प्रारंभ काल माना है।