"बेगूसराय": अवतरणों में अंतर

417 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
Reverted to revision 5236595 by रोहित साव27 (talk): . (TwinkleGlobal)
(→‎साहित्य और संस्कृति: इतिहासकार डॉ राम शरण शर्मा की धरती है बरौनी गाँव जो आज भी उपेक्षित है)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
(Reverted to revision 5236595 by रोहित साव27 (talk): . (TwinkleGlobal))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
 
== साहित्य और संस्कृति ==
बेगूसराय हमारे राष्ट्रकवि [[रामधारी सिंह 'दिनकर'|रामधारी सिंह दिनकर]] की जन्मभूमि है।<ref>{{cite news|title=आज भी उपेक्षित है ')विश्वइतिहासराष्ट्रकवि कादिनकर (डॉक्टरकी रामशरणपैतृक शर्मा )जन्मस्थली है बरौनी गाँवगांव सिमरिया|url=http://www.livehindustan.com/news/begusarai/article1-National-poet-dinkar-native-village-simriya-ignored-today-in-begusarai-564460.html|publisher=हिंदुस्तान|access-date=17 अप्रैल 2017|archive-url=https://web.archive.org/web/20170418081538/http://www.livehindustan.com/news/begusarai/article1-National-poet-dinkar-native-village-simriya-ignored-today-in-begusarai-564460.html|archive-date=18 अप्रैल 2017|url-status=dead}}</ref> उन्हीं के नाम पर नगर का टाउन हॉल दिनकर कला भवन के नाम से जाना जाता है। यहां आकाश गंगा रंग चौपाल बरौनी ,द फैक्ट रंगमंडल. आशीर्वाद रंगमंडल जैसी कई प्रमुख नाट्यमंडलियां हैं जिन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त की हैं। राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय से पास आउट गणेश गौरव और प्रवीण गुंजन लगातार कला और साहित्य के लिए प्रतिबद्ध हैं। रंग कार्यशाला लगाकर रंगकर्म और कला साहित्य की नई पीढ़ी तैयार करने में लगे हैं । जिले के दिनकर भवन में लगातार नाटकों और कला से जुड़े विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों का प्रदर्शन किया जाता रहा है। प्रतिवर्ष राष्ट्रीय नाट्य महोत्सव रंग संगम, रंग माहौल, आशीर्वाद नाट्य महोत्सव आदि का आयोजन किया जाता है। जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर के कलाकारों ने अपनी बेहतरीन प्रस्तुति देते हैं। यहां की संस्कृति , साहित्य को बढ़ावा देने में लब्धप्रतिष्ठ कवि अशांत भोला,जनकवि दीनानाथ सुमित्र,चर्चित कवि प्रफुल्ल मिश्र,गीतकार रामा मौसम, वरिष्ठ रंगकर्मी अनिल पतंग, कार्टूनिस्ट सीताराम, युवा कवि व पत्रकार नवीन कुमार, युवा कवि डॉ अभिषेक कुमार. युवा कवयित्री सीमा संगसार ,समाँ प्रवीण, का नाम उल्लेखनीय है। सिमरिया धाम एक आदि कुंभ स्थली हैं जहां स्वामी चिदात्मन द्वारा आदि कुंभ स्थली सिमरिया धाम का पुनर्जागरण किया गया। आदि कुंभा स्थली की खोज संंत शिरोमणि करपात्री अग्निहोत् परमहंस स्वामी चिदात्मन जी महाराज नेे किया और 2017 में यहां महाकुंभ भी लगा था फिर 2023 में यहां अर्ध कुंभ लगेगा. यहां वेद पढ़ने वााले विद्यार्थियों और शिक्षकों के नाम आचार्य रामनरेश झा.आचार्य वरुण पाठक विद्यार्थी पद्मनाभ झा, राम झा, लक्ष्मण झा, श्याम झा अन्य हैं।
 
बेगूसराय जिले के सभी महाविद्यालय ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय दरभंगा से संबद्ध हैं। यहां के महत्वपूर्ण महाविद्यालयों में गणेश दत्त महाविद्यालय, एसबीएसएस कॉलेज, श्री कृष्ण महिला कॉलेज. चंद्रमा असरफी भागीरथ सिंघ कॉलेज खमहार .एपीएसएम कॉलेज बरौनी. भाग्य नारायण महिला कॉलेज बरौनी गाँव,जेके हाई स्कूल बरौनी गाँव ,आरसीएस कॉलेज मन्झौल. आदि हैं। अहम विद्यालयों में जे.के. इंटर विधालय. बीएसएस इंटर कॉलेजिएट हाईस्कूल, आर. के. सी. +२ विद्यालय फुलवरिया बरौनी, बीपी हाईस्कूल,श्री सरयू प्रसाद सिंह विद्यालय विनोदपुर , सेंट पाउल्स स्कूल, डीएवी बरौनी, बीआर डीएवी (आईओसी), केवी आईओसी, डीएवी इटवानगर,सुह्रद बाल शिक्षा मंदिर, साइबर स्कूल, जवाहर नवोदय विद्यालय, हमारे यहां बेगूसराय में यमुना भगत स्टेडियम, {बरौनी खेल गाँव के लिए विख्यात है बहुत सारे राष्ट्रीय स्तर के खेल हुए हैं ] सिमरिया धाम जो कि आदि कुंभ स्थलीन्यू गोल्डेन इंग्लिश स्कूल,विकास विद्यालय आदि।
 
== कृषिभूमि ==