"प्राणतत्ववाद" के अवतरणों में अंतर

167 बैट्स् जोड़े गए ,  4 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
("Vitalism" पृष्ठ का अनुवाद करके निर्मित किया गया)
 
 
'''प्राणतत्ववाद''' ('''Vitalism''') एक विश्वास है कि "जीवित वस्तुएँ मूल रूप से निर्जीव वस्तुओं से भिन्न हैं क्योंकि उनमें कुछ गैर-भौतिक तत्व होते हैं या वे निर्जीव वस्तुओं की तुलना में भिन्न सिद्धांतोंसिद्धाnतों द्वारा परिचालित होते हैं"।हैं। {{Efn|[[Stéphane Leduc]] and [[D'Arcy Thompson]] (''[[On Growth and Form]]'') published a series of works that in Evelyn Fox Keller's view took on the task of uprooting the remaining vestiges of vitalism, essentially by showing that the principles of physics and chemistry were enough, by themselves, to account for the growth and development of biological form.<ref>Evelyn Fox Keller, ''Making Sense of Life Explaining Biological Development with Models, Metaphors, and Machines''. Harvard University Press, 2002.</ref> On the other hand, [[Michael Ruse]] notes that D'Arcy Thompson's avoidance of [[natural selection]] had an "odor of spirit forces" about it.<ref name=Ruse>{{cite book |author1=Ruse, Michael |editor1-last=Henning |editor1-first=Brian G. |editor2-last=Scarfe |editor2-first=Adam |title=Beyond Mechanism: Putting Life Back Into Biology |date=2013 |publisher=Lexington Books |page=419 |chapter-url= https://books.google.com/books?id=3VtosxAtq-EC|chapter=17. From Organicism to Mechanism-and Halfway Back?|isbn=9780739174371 }}</ref>}} १८वीं और १९वीं शताब्दी में दो विचार वाले जीवविज्ञानी थे, एक वे जो यह कहते थे कि कि भौतिकी के ज्ञात सिद्धान्त अंततः जीवन और निर्जीवन के अन्तर की व्याख्या करने में सफल होंगे जबकि दूसरे तरह के जीवविज्ञानी यह मानते थे कि जीवन की प्रक्रियाओं को यंत्रवत प्रक्रियाओं के रूप में अभिव्यक्त नहीं किया जा सकता।
 
१८वीं और १९वीं शताब्दी में दो विचार वाले जीवविज्ञानी थे। एक प्रकार के जीइवविज्ञानी वे थे जो यह कहते थे कि कि [[भौतिकी]] के ज्ञात सिद्धान्त अन्ततः जीवन और [[निर्जीव|निर्जीवन]] के अन्तर की व्याख्या करने में सफल होंगे जबकि दूसरे तरह के जीवविज्ञानी यह मानते थे कि जीवन की प्रक्रियाओं को यंत्रवत प्रक्रियाओं के रूप में अभिव्यक्त नहीं किया जा सकता।
 
==सन्दर्भ==
{{टिप्पणीसूची}}