"तालिबान आन्दोलन" के अवतरणों में अंतर

छो
→‎तालिबानी सजा: रेफेरेन्स लगाया।
छो ("तालिबान आन्दोलन" की स्थिर अवतरण सेटिंग्स बदलीं: अत्यधिक बर्बरता एवं उत्पात [स्वतः पुनरीक्षण: "review" की अनुमति चाहिए] (07:12, 27 सितंबर 2021 (UTC) को समाप्ति))
छो (→‎तालिबानी सजा: रेफेरेन्स लगाया।)
तालिबानी इलाकों में शरीयत का उल्लंघन करने पर बहुत ही क्रूर सजाएं दी जाती हैं। एक सर्वेक्षण के अनुसार, 97 फीसदी अफगान महिलाएं अवसाद की शिकार हैं।<ref>{{Cite web |url=http://www.bhaskar.com/article/INT-afghan-president-election-and-taliban-4571364-PHO.html?seq=4 |title=संग्रहीत प्रति |access-date=5 अप्रैल 2014 |archive-url=https://web.archive.org/web/20140407065452/http://www.bhaskar.com/article/INT-afghan-president-election-and-taliban-4571364-PHO.html?seq=4 |archive-date=7 अप्रैल 2014 |url-status=live }}</ref>
*घर में बालिका विद्यालय चलाने वाली महिलाओं को उनके पति, बच्चों और छात्रों के सामने गोली मार दी जाती है।
*प्रेमी के साथ भागने वाली महिलाओं को भीड़ में पत्थर मारकर मौत के घाट उतार दिया जाता था। <ref name="स्कैन">{{Cite book |last=स्कैन| first=रोज़मैरी |url=https://www.goodreads.com/book/show/5973498-women-of-afghanistan-in-the-post-taliban-era |title=The women of Afghanistan under the Taliban|lang=en |date=28 नवम्बर 2001 |publisher=मैक्फार्लैण्ड|isbn=978-0-7864-1090-3 |pages=41}}</ref>
*गलती से बुर्का से पैर दिख जाने पर कई अधेड़ उम्र की महिलाओं को पीटा जाता था।
*पुरुष डॉक्टर्स द्वारा महिला रोगी के चेकअप पर पाबंदी से कई महिलाएं मौत के मुंह में चली गई।
3,488

सम्पादन