"अजमेर": अवतरणों में अंतर

2,061 बाइट्स हटाए गए ,  1 वर्ष पहले
छो
2409:4052:982:7985:0:0:2250:18A4 (Talk) के संपादनों को हटाकर Mnhrdng के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2409:4052:982:7985:0:0:2250:18A4 (Talk) के संपादनों को हटाकर Mnhrdng के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
'''अजमेर''' [[राजस्थान]] प्रान्त के मध्य में स्थित एक महानगर व एतिहासिक शहर है। यह इसी नाम के अजमेर संभाग व [[अजमेर जिला|अजमेर जिला]] का मुख्यालय भी है। अजमेर [[अरावली|अरावली पर्वत श्रेणी]] की तारागढ़ पहाड़ी की ढाल पर स्थित है। यह नगर सातवीं शताब्दी में [[अजयराज|अजयराज सिंह]] नामक एक चौहान राजा द्वारा बसाया गया था। इस नगर का मूल नाम 'अजयमेरु' था। सन् 1365 में [[मेवाड़]] के शासक, 1556 में अकबर और 1770 से 1880 तक मेवाड़ तथा [[मारवाड़]] के अनेक शासकों द्वारा शासित होकर अंत में 1881 में यह अंग्रेजों के आधिपत्य में चला गया।
 
1236 ईस्वी में निर्मित, तीर्थस्थल ख्वाजा मोइन-उद दीन चिश्ती, एक प्रसिद्ध फारसी सुफी संत को समर्पित है। अजमेर में ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह के खादिम भील पूर्वजों के वंशज हैं। 12 वीं सदी की कृत्रिम झील आना सागर एक और पसंदीदा पर्यटन स्थल है जिसका महाराजा अना द्वारा निर्माण करवाया गया था। अकबर द्वारा एक क़िले का निर्माण करवाया गया जिसे मेगज़ीन कहा जाता है और इसे अब एक म्यूजियम में बदल दिया गया है।
 
अजमेर दुनिया के सबसे पुराने पहाड़ी किलों में से एक है – तारगढ़ किला जो चौहान राजवंश की सीट थी। जो गुर्जर प्रतिहार वंश से सम्बंधित था। अजमेर जैन मंदिर (जो सोनजी की नसीयाँ के नाम से भी जाना जाता है) अजमेर में एक और पर्यटन स्थल है।
 
अजमेर दुनिया के सबसे पुराने पहाड़ी किलों में से एक है – तारगढ़ किला जो चौहान राजवंश की सीट थी। जो गुर्जर प्रतिहार वंश से सम्बंधित था। अजमेर जैन मंदिर (जो सोनजी की नसीयाँ के नाम से भी जाना जाता है) अजमेर में एक और पर्यटन स्थल है।
[[चित्र:आनासागर झील.jpg|अंगूठाकार]]
तबीजी में यहां पर देश के प्रथम बीजीय मशाला अनुसंधान केंद्र की स्थापना की गई ।
 
अजमेर 15 जनवरी 1987 को एक संभागीय मुख्यालय बना।
यहां राजस्थान लोक सेवा आयोग (22 दिसंबर 1949), राजस्थान राजस्व मंडल, माध्यमिक शिक्षा बोर्ड का मुख्यालय स्थित है।
यहां पर महर्षि दयानंद सरस्वती विश्वविद्यालय स्थित है। आर्य समाज के संस्थापक श्री महर्षि स्वामी दयानंद सरस्वती जी का निधन 1883 में यहीं पर हुआ।
 
 
अजमेर जिला राजस्थान में मुर्गी पालन की दृष्टि से प्रथम स्थान पर है।
मुगल सम्राट शाहजहां के पुत्रों के बीच उत्तराधिकार का युद्ध"दौराई का युद्ध"14 मार्च 1659 को इसी जिले में हुआ।
बासेली (पुष्कर) राजस्थानी फिल्मों के लिए स्टूडियो प्रस्तावित है।
 
भौगोलिक उपनाम -
1-राजस्थान का हृदय
 
2-विभिन्न संस्कृतियों की भूमि
 
3-राजस्थान का जिब्राल्टर
 
4- भारत का मक्का
 
 
 
 
==इतिहास==