"ब्लूटूथ" के अवतरणों में अंतर

69 बैट्स् जोड़े गए ,  3 माह पहले
(→‎top: व्याकरण में सुधार, कड़ियाँ लगाई)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
#
# [[चित्र:Bluetooth headset.jpg|thumb|right|एक ब्लूटूथ हैडसेट मोबाइल फोन से जोड़ने के लिए]] [[चित्र:BluetoothUSB.jpg|thumb|right|[[Universal Serial Bus|यूएसबी]] एडेप्टर]]
'''ब्लूटूथ''' बेतार (वायरलेस) संचार के लिए एक [[संचार प्रोटोकॉल|प्रोटोकॉल]] है। मोबाइल फोन, लैपटॉप, संगणक, प्रिंटर, अंकीय (डिजिटल) कैमरा और वीडियो गेम जैसे ''उपकरण'' इसके माध्यम से एक दूसरे से जुड़ कर जानकारी विनिमय कर सकते हैं। जुड़ने के लिए उपकरण [[रेडियो तरंग|रेडियो तरंगों]] का उपयोग करते हैं। ब्लूटूथ को मूलत: संगणक से अन्य उपकरणों को जोड़ने वाले तारों (केबलों) की संख्या को कम करने के लिए विकसित किया गया था। ब्लूटूथ को अपेक्षाकृत कम दूरी यहाँ तक कि सिर्फ् कुछ मीटर के लिए ही इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे ज्यादा नहीं कर सकते|
 
ब्लूटूथ के लिए कई मानक हैं। आंकडे़ प्रसार दरें बदलती रहती हैं। वर्तमान में यह दर प्रति सेकंड 1-3 MBit पर हैं। आम तौर पर ब्लूटूथ अनुप्रयोग का उपयोग एक हेडसेट को मोबाइल फोन या एक कंप्यूटर माउस, कुंजीपटल या मुद्रक (प्रिंटर) को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए किया जाता है।
ब्ल्यूटूथब्लूटूथ, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (पीडीए), मोबाइल फोन, लैपटॉप, पर्सनल कम्प्यूटर, पिरन्टर, डिजिटल कैमरा और वीडियो गेम कन्सोल इत्यादि को जोड़ने एवं सूचनाओं को आदानप्रदान करने का एक तरीका प्रदान करता है। यह वास्तव में मूलरूप से एक नेटवर्किग मानक है जो दो स्तरों पर काम करता हैः
# प्रथम स्तर में यह भौतिक आधार पर रजामंदी (एगरीमेन्ट) प्रदान करता है,
# द्वितीय स्तर में यह प्रत्रोटोकॉल के आधार पर भी रजामंदी प्रदान करता है। द्वितीय स्तर में उपकरणों या उत्पादों को इस बात पर सहमत होना पड़ता है। कि बिट्सं का प्रेषण कब होता है। एक समय में कितनी बिट्स भेजी जाएंगी तथा विभिन्न पक्ष सूचनाओं के आदानप्रदान (कन्वसेर्शन) के दौरान कैसे सुनिश्चित कर सकते हैं कि अभिगरहित संदेश वहीं है जो भेजा गया है।
 
ब्ल्यूटूथब्लूटूथ '''टैक्नोलॉजी''' की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि यह एक बेतार, सस्ती और स्वचालित टैक्नोलॉजी है। इस संदर्भ में अन्य तकनीकों का भी प्रयोग किया जा सकता है। इन तकनीकों में इन्परारेड संचार भी शामिल है। यद्यिप इन्परारेड संचार उपकरण काफी हद तक विश्वसनीय होते हैं और इनकी कीमत भी ज्यादा नहीं होती है लेकिन इनकी कुद खास कमियां भी है। ये कमियां हैं:
# इन्परारेड एक लाइनऑफ-साइट टैक्नोलॉजी है। उदाहरण के लिए हम टेलीविजन या डी़वी़डी प्लेयर के रिमोट को लेते हैं। टेलीविजन या डी़वी़डी़ प्लेयर को चलाने या बंद करने के लिए हमें रिमोट का केन्दर बिंदु उसी ओर करना पड़ेगा जिस और टेलीविजन या डी़वी़डी प्लेयर है
# इन्परारेड एक वनटू-वन टैक्नोलॉजी है। उदाहरणार्थ आप अपने डेस्कटॉप कम्प्यूटर और लैपटॉप कम्प्यूटर के बीच डाटा भेज सकते हैं लेकिन लैपटॉप कम्प्यूटर और पर्सनल डिजिटल असिस्टेंट (पी़डी़ए़) के बीच एक समय में डाटा नहीं भेज सकते है।
ब्ल्यूटूथ नामकरण
ब्ल्यूटूथ नाम 10वीं सदी के '''डेनमार्क''' के राजा हैराल्ड ब्ल्यूटूथ से लिया गया है। ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी के अन्वेषकों के अनुसार हैराल्ड ने राजनयिक अर्थात डिप्लोमेसी की एक चाल जिसके अंतर्गत युद्धरत दल या पार्टियों ने एक दूसरे से समझौता करना शुरू कर दिया और इसी प्रक्रिया ने ब्ल्यूटूथ को इस टैक्नोलॉजी के नाम के साथ दिया जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के उपकरण या युक्तियाँ आपस में बात/सूचनाओं का आदानप्रदान कर सकते हैं।
 
== ब्ल्यूटूथ टैक्नोलॉजी ==
बेनामी उपयोगकर्ता