"प्रदोष व्रत": अवतरणों में अंतर

67 बैट्स् जोड़े गए ,  9 माह पहले
Rescuing 0 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.8.1
(InternetArchiveBot के अवतरण 4988833पर वापस ले जाया गया : Reverted to the best version (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(Rescuing 0 sources and tagging 1 as dead.) #IABot (v2.0.8.1)
|type =<!--DO NOT CHANGE! THIS CONTROLS COLOUR-->hindu<!--DO NOT CHANGE! THIS CONTROLS COLOUR-->
}}
[[हिन्दू धर्म]] के अनुसार, '''प्रदोष व्रत''' <ref>{{Cite web |url=http://essenceofastro.blogspot.in/2016/08/pradosh-vrat.html |title=संग्रहीत प्रति |access-date=23 नवंबर 2016 |archive-url=https://web.archive.org/web/20161124025114/http://essenceofastro.blogspot.in/2016/08/pradosh-vrat.html |archive-date=24 नवंबर 2016 |url-status=dead }}</ref> कलियुग में अति मंगलकारी और शिव कृपा प्रदान करनेवाला होता है। माह की [[त्रयोदशी]] तिथि में सायं काल को '''प्रदोष काल''' कहा जाता है।<ref>http://www.bhaskar.com/news/referer/521/JM-JKR-DHAJ-today-25-octobersunday-do-ravi-pradosh-vrat-by-this-method-5149095-NOR.html?referrer_url=https%3A%2F%2Fwww.google.co.in%2Fm%3Fq%3D%25E0%25A4%25AA%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25A6%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%25B6%2B%25E0%25A4%25B5%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25A4{{Dead link|date=सितंबर 2021 |bot=InternetArchiveBot }}</ref> मान्यता है कि प्रदोष के समय महादेव [[कैलास पर्वत|कैलाश पर्वत]] के रजत भवन में इस समय नृत्य करते हैं और देवता उनके गुणों का स्तवन करते हैं। जो भी लोग अपना कल्याण चाहते हों यह व्रत रख सकते हैं। प्रदोष व्रत को करने से हर प्रकार का दोष मिट जाता है। सप्ताह केसातों दिन के प्रदोष व्रत का अपना विशेष महत्व है।<ref>[http://www.livehindustan.com/news/tayaarinews/tayaarinews/67-67-124698.html 9 जुलाई: प्रदोष व्रत]। हिन्दुस्तान लाइव। २ जुलाई २०१०</ref>
<br>
प्रदोष व्रत विधि के अनुसार दोनों पक्षों की प्रदोषकालीन त्रयोदशी को मनुष्य निराहार रहे। निर्जल तथा निराहार व्रत सर्वोत्तम है परंतु अगर यह संभव न हो तो नक्तव्रत करे। पूरे दिन सामर्थ्यानुसार या तो कुछ न खाये या फल ले। अन्न पूरे दिन नहीं खाना। सूर्यास्त के कम से कम 72 मिनट बाद हविष्यान्न ग्रहण कर सकते हैं। शिव पार्वती युगल दम्पति का ध्यान करके पूजा करके। प्रदोषकाल में घी के दीपक जलायें। कम से कम एक अथवा 32 अथवा 100 अथवा 1000 । <ref>{{cite web |title=प्रदोष व्रत विधि |url=https://essenceofastro.blogspot.com/2016/08/pradosh-vrat.html |access-date=16 जून 2020 |archive-url=https://web.archive.org/web/20200616201521/https://essenceofastro.blogspot.com/2016/08/pradosh-vrat.html |archive-date=16 जून 2020 |url-status=dead }}</ref>
1,16,415

सम्पादन