"मिहिरकुल" के अवतरणों में अंतर

93 बैट्स् जोड़े गए ,  7 माह पहले
सम्पादन सारांश रहित
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
No edit summary
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
'''मिहिरकुल''' ([[चीनी]]: 大族王, [[जापानी भाषा|जापानी]]: दाइज़ोकु-ओ) भारत में एक ऐतिहासिक श्वेत गुर्जर हुण शासक था। ये [[तोरामन]] का पुत्र था। तोरामन भारत में गुर्जर हुण शासन का संस्थापक था। मिहिरकुल [[५१०]] ई. में गद्दी पर बैठा।
 
मिहिरकुल का प्रबल विरोधी नायक था [[यशोधर्मन]]। कुछ काल के लिए अर्थात् 510 ई. में एरण (तत्कालीन [[मालवा]] की एक प्रधान नगरी) के युद्ध के बाद से लेकर लगभग 527 ई. तक, जब उसने मिहिरकुल को [[गंगा नदी|गंगा]] के कछार में भटका कर क़ैद कर लिया था, उसे तोरमाण के बेटे मिहिरकुल को अपना अधिपति मानना पड़ा था। क़ैद करके भी अपनी माँ के कहने पर उसने हूण-सम्राट को छोड़ दिया था। इधर-उधर भटक कर जब मिहिरकुल को काश्मीर में शरण मिली तो सम्भवतः आर्यों ने सोचा होगा कि चलो गुर्जर हूण सदा के लिए परास्त हो गये। परन्तु मिहिरकुल चुप बैठने वाला नहीं था। उसने अवसर पाते ही अपने शरणदाता को नष्ट करके काश्मीर का राज्य हथिया लिया। ‘‘तब फिर उसने गांधार पर चढ़ाई की और वहाँ जघन्य अत्याचार किये।किये।गुर्जर हूणों के दो तीन आक्रमणों से तक्षशिला सदा के लिए मटियामेट हो गया।
 
कुछ इतिहासकार मानते हैं कि मालवा के राजा यशोधर्मन और मगध के राजा बालादित्य ने गुर्जर हूणों के विरुद्ध एक संघ बनाया था और भारत के शेष राजाओं के साथ मिलकर मिहिरकुल को परास्त किया था। यह बात अब असत्य प्रमाणित हो चुकी है।है।गुर्जर हूणों की एक विशाल सेना ने मिहिरकुल के नेतृत्व में आक्रमण किया। मिहिरकुल के नेतृत्व में गुर्जर हूण पंजाब, मथुरा के नगरों को लूटते हुए, ग्वालियर होते हुए मध्य भारत तक पहुँच गये। [२] इस समय उन्होंने मथुरा के समृद्विशाली और सांस्कृतिक नगर को जी भर कर लूटा। मथुरा मंडल पर उस समय गुप्त शासन था। गुप्त शासकों की ओर नियुक्त शासक गुर्जर हूणों के आक्रमण से रक्षा में असमर्थ रहा। गुप्तकाल में मथुरा अनेक धर्मो का केन्द्र था और धार्मिक रुप से प्रसिद्व था। मथुरा में बौद्व, जैन और हिन्दू धर्मो के मंदिर, स्तूप, संघाराम और चैत्य थे। इन धार्मिक संस्थानों में मूर्तियों और कला कृतियाँ और हस्तलिखित ग्रंथ थे। इन बहुमूल्य सांस्कृतिक भंडार को बर्बर गुर्जर हूणों ने नष्ट किया। यशोधर्मन और मिहिरकुल का युद्ध सन् 532 से कुछ पूर्व हुआ होगा, पर इतिहासकार मानते हैं कि मिहिरकुल उसके 10-15 वर्ष बाद तक जीवित रहा। उसके मरने पर गुर्जर हूण-शक्ति टूट गयी। धीरे-धीरे गुर्जर हूण हिन्दू समाज में घुलमिल गये और आज की हिन्दू गुर्जर जाति के अनेक स्तर हूणों की देन हैं।
 
== परिचय ==
35

सम्पादन