"सुलतानपुर जिला": अवतरणों में अंतर

छो
2409:4043:4D1F:6C94:ED3E:A74F:27B8:6C73 (Talk) के संपादनों को हटाकर 116.72.212.48 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2409:4043:4D1F:6C94:ED3E:A74F:27B8:6C73 (Talk) के संपादनों को हटाकर 116.72.212.48 के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
== इतिहास ==
<ref>{{cite web|url= http://sultanpur.nic.in/intro.htm|title= अधिकारीक जालस्थल|access-date= 26 जून 2015|archive-url= https://web.archive.org/web/20150905060045/http://sultanpur.nic.in/intro.htm|archive-date= 5 सितंबर 2015|url-status= live}}</ref> [[सुलतानपुर, उत्तर प्रदेश|सुलतानपुर]], [[उत्तर प्रदेश]] राज्य का एक ऐसा भाग है जहां अंग्रेजी शासन से पहले उदार नवाबों का राज था। पौराणिक मान्यतानुसार आज का [[सुलतानपुर, उत्तर प्रदेश|सुलतानपुर]] जिला पूर्व में [[गोमती नदी]] के तट पर मर्यादा पुरुषोत्तम "भगवान श्री [[राम]]" के पुत्र '''कुश''' द्वारा बसाया गया [[सुलतानपुर जिला|कुशभवनपुर]] नाम का नगर था। [[ख़िलजी वंश|खिलजी वंश]] के सुल्तान ने भारशिवो नागवंशी क्षत्रिय भरके राजा नंदकुवर भर एक महान प्रतापी राजा थे इनको खिलजी वंश के सुल्तानों ने वैश्यराजपूतों के साथ मिलकर छल पूर्वक पराजित किया और खिलजी वंश के सुल्तान ने वैश्य राजपूतों को भाले सुल्तान की उपाधि प्रदान की इसी भाले सुल्तान की उपाधि के नाम पर इस नगर को [[सुलतानपुर, उत्तर प्रदेश|सुलतानपुर]] के नाम से बसाया गया । यहां की भौगोलिक उपयुक्तता और स्थिति को देखते हुए [[अवध]] के नवाब सफदरजंग ने इसे [[अवध]] की राजधानी बनाने का प्रयास किया था, जिसमें उन्हें सफलता नहीं मिली।
 
== स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास ==