"छायावाद" के अवतरणों में अंतर

23 बैट्स् नीकाले गए ,  7 माह पहले
छो
2401:4900:51C1:DD7E:558A:8CA9:E09A:8C49 (वार्ता) के 2 संपादन वापस करके संजीव कुमारके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
छो (2401:4900:51C1:DD7E:558A:8CA9:E09A:8C49 (वार्ता) के 2 संपादन वापस करके संजीव कुमारके अंतिम अवतरण को स्थापित किया (ट्विंकल))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
* [[महादेवी वर्मा]] छायावाद का मूल दर्शन [[जीववाद|सर्वात्मवाद]] को मानती हैं और प्रकृति को उसका साधन। उनके छायावाद ने मनुष्य के ह्रृदय और प्रकृति के उस संबंध में प्राण डाल दिए जो प्राचीन काल से बिम्ब-प्रतिबिम्ब के रूप में चला आ रहा था और जिसके कारण मनुष्य को प्रकृति अपने दुख में उदास और सुख में पुलकित जान पड़ती थी।’ इस प्रकार महादेवी के अनुसार छायावाद की कविता हमारा प्रकृति के साथ रागात्मक संबंध स्थापित कराके हमारे ह्रृदय में व्यापक भावानुभूति उत्पन्न करती है और हम समस्त विश्व के उपकरणों से एकात्म भाव संबंध जोड़ लेते हैं। वे [[रहस्यवाद]] को छायावाद का दूसरा सोपान मानती हैं।
 
== छायावाद जय की मुख्य विशेषताएँ (प्रवृत्तियाँ) ==
छायावाद की प्रमुख प्रवृत्तियों का विभाजन हम तीन या दो शीर्षकों के अंतर्गत कर सकते हैं।
 
 
=== आत्माभिव्यक्ति ===
छायावाद में सभी लौड़े कवियों ने अपने अनुभव को मेरा अनुभव कहकर अभिव्यक्त किया है। इस मैं शैली के पीछे आधुनिक युवक की स्वयं को अभिव्यक्त करने की सामाजिक स्वतंत्रता की आकांक्षा है। कहानी के पात्रों अथवा पौराणिक पात्रों के माध्यम से अभिव्यक्ति की चिर आचरित और अनुभव सिद्ध नाटकीय प्रणाली उसके भावों को अभिव्यक्त करने में पूर्णतः समर्थ नहीं थी।
वैयक्तिक अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता व्यक्ति की मुक्ति से संबद्ध थी। यह वैयक्तिक अभिव्यक्ति भक्तिकालीन कवियों के आत्मनिवेदन से बहुत आगे की चीज है। यह ऐहिक वैयक्तिक आवरणहीन थी। इसपर धर्म का आवरण नहीं था। सामंती नैतिकता को अस्वीकार करते हुए पंत ने उच्छवास और आँसू की बालिका से सीधे शब्दों में अपना प्रणय प्रकट किया है:-
"बालिका मेरी मनोरम मित्र थी।"