"लुईस के अम्ल और क्षार" के अवतरणों में अंतर

Arman khan class 12 Pilakhna
छो (ManishChaudhary7878 (Talk) के संपादनों को हटाकर InternetArchiveBot के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
(Arman khan class 12 Pilakhna)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
Arman khan class 12 pilakhna '''लुईस अम्ल''' (लुईस एसिड) उस रासायनिक प्रजाति को कहते है जिसमें एक खाली कक्षक (ऑर्बिटल) हो जो '''लुईस क्षार''' (लुईस बेस) से एक इलेक्ट्रॉन-युग्म स्वीकार करके कोई लुईस ऐडक्ट ( Lewis adduct) बना सके। इस प्रकार , '''लुईस क्षार''' वह रासायनिक प्रजाति है जिसका कक्षक भरा हुआ हो और जिसमें एक इलेक्ट्रॉन-युग्म हो जो [[आबंध]] निर्माण में भाग न ले रहा हो किन्तु किसी लुईस अम्ल के साथ डेटिव आबन्ध बनाकर एक लुईस ऐडक्ट का निर्माण करे।
 
उदाहरण के लिए,BeCl2 NH<sub>3</sub> एक लुईस क्षार है, क्योंकि यह इलेक्ट्रॉनों के अपने एकल-युग्म को दान कर सकता है। त्रिमेथिल बोरॉन (Me<sub>3</sub>B) एक लुईस अम्ल है क्योंकि यह किसी एकल-युग्म को स्वीकार करने में सक्षम है।
बेनामी उपयोगकर्ता