"लुईस के अम्ल और क्षार" के अवतरणों में अंतर

छो
2401:4900:30D2:1390:0:52:EBCE:B01 (Talk) के संपादनों को हटाकर संजीव कुमार के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया
(Arman khan class 12 Pilakhna)
टैग: Reverted मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
छो (2401:4900:30D2:1390:0:52:EBCE:B01 (Talk) के संपादनों को हटाकर संजीव कुमार के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: प्रत्यापन्न
Arman khan class 12 pilakhna '''लुईस अम्ल''' (लुईस एसिड) उस रासायनिक प्रजाति को कहते है जिसमें एक खाली कक्षक (ऑर्बिटल) हो जो '''लुईस क्षार''' (लुईस बेस) से एक इलेक्ट्रॉन-युग्म स्वीकार करके कोई लुईस ऐडक्ट ( Lewis adduct) बना सके। इस प्रकार , '''लुईस क्षार''' वह रासायनिक प्रजाति है जिसका कक्षक भरा हुआ हो और जिसमें एक इलेक्ट्रॉन-युग्म हो जो [[आबंध]] निर्माण में भाग न ले रहा हो किन्तु किसी लुईस अम्ल के साथ डेटिव आबन्ध बनाकर एक लुईस ऐडक्ट का निर्माण करे।
 
उदाहरण के लिए,BeCl2 NH<sub>3</sub> एक लुईस क्षार है, क्योंकि यह इलेक्ट्रॉनों के अपने एकल-युग्म को दान कर सकता है। त्रिमेथिल बोरॉन (Me<sub>3</sub>B) एक लुईस अम्ल है क्योंकि यह किसी एकल-युग्म को स्वीकार करने में सक्षम है।