"निवेशक" के अवतरणों में अंतर

432 बैट्स् जोड़े गए ,  11 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: '''निवेशक''' उन व्यक्ति या संस्थाओं को कहा जाता है, जो किसी योजना में ...)
 
'''निवेशक''' उन व्यक्ति या संस्थाओं को कहा जाता है, जो किसी योजना में अपना धन [[निवेश]] करते हैं। निवेशक कई प्रकार के होते हैं,जैसे व्यक्तिगत निवेशक, सामाजिक संस्थाएं और विदेशी संस्थागत निवेशक।<ref name="हिन्दुस्तान">[http://www.livehindustan.com/news/tayaarinews/gyan/67-75-82066.html निवेशक]।हिन्दुस्तान लाइव।२० नवंबर, २००९।</ref>
 
==व्यक्तिगत निवेशक==
संख्या के अनुसार देखें, तो यह समूह शेयरधारकों का सबसे बड़ा भाग होता है। सार्वजनिक निर्गम के संदर्भ में, व्यक्तिगत निवेशकों को दो भागों में बांटा जा सकता है।<ref name="हिन्दुस्तान"/> पहले वह जो अधिकतम एक लाख रुपए के शेयर के लिए आवेदन कर सकते हैं और दूसरे वह जो एक लाख या उससे अधिक मूल्य के शेयरों के लिए आवेदन कर सकते हैं। इन निवेशकों को एचएनआई कहा जाता है। आईपीओ में फुटकर निवेशकों का हिस्सा ३५ और एचएनआई का २५ प्रतिशत होता है।
 
==सामाजिक संस्थाएं==
ये कई लोगों द्वारा आपस में मिलकर बनाई गई संस्थाएं होती हैं, लेकिन ये संस्थाएं अपने बनाए गए नियम कानूनों के तहत ही शेयर बाजार में निवेश कर सकती हैं।<ref name="हिन्दुस्तान"/>
 
===विदेशी संस्थागत निवेशक===
ये वे संस्थाएं होती है जिनकी रचना भारत में निवेश करने हेतु विदेश में की गई है। भारत में निवेश करने के लिए इन संस्थाओं को सेबी के साथ अपना पंजीकरण विदेशी संस्थागत निवेशक के रूप में करना होता है।<ref name="हिन्दुस्तान"/> [[सेबी]] के नियमों के मुताबिक इस तरह की संस्थाएं किसी भारतीय कंपनी के आईपीओ के कुल मूल्य के दस प्रतिशत से ज्यादा पर निवेश नहीं कर सकतीं।
 
===वित्तीय संस्थाएं===
वित्तीय संस्थाओं के अंतर्गत [[बैंक]], [[बीमा]] कंपनियां, पेंशन फंड आदि के लिए धन लगाने वाली संस्थाएं होती हैं।<ref name="हिन्दुस्तान"/> निवेशकों के संदर्भ में कहें, तो प्राथमिक और द्वितीयक बाजार के ये सबसे बड़े निवेशक होते हैं।