"कार्बन डाईऑक्साइड": अवतरणों में अंतर

आकार में बदलाव नहीं आया ,  9 माह पहले
छो
सम्पादन सारांश नहीं है
छो (117.230.191.97 (Talk) के संपादनों को हटाकर संजीव कुमार के आखिरी अवतरण को पूर्ववत किया)
टैग: वापस लिया
छोNo edit summary
[[चित्र:Carbondioxide structural formulae.png|thumb|right|200px|कार्बन डाईऑक्साइड]]
 
'''कार्बन डाइआक्साइड''' ([[अंग्रेज़ी भाषा|अंग्रेजी]]:Carboncarbon dioxide; [[रासायनिक सूत्र]] '''CO<sub>2</sub>'''), एक रंगहीन तथा गन्धहीन [[गैस]] है जो [[पृथ्वी]] पर जीवन के लिये अत्यावश्यक है। धरती पर यह प्राकृतिक रूप से पायी जाती है। धरती के वायुमण्डल में यह गैस आयतन के हिसाब से लगभग 0.03 प्रतिशत होती है।
 
कार्बन डाइआक्साइड का निर्माण [[ऑक्सीजन|आक्सीजन]] के दो [[परमाणु]] तथा [[कार्बन]] के एक परमाणु से मिलकर हुआ है। सामान्य [[तापमान]] तथा [[दाब|दबाव]] पर यह गैसीय अवस्था में रहती है। [[पृथ्वी का वायुमण्डल|वायुमंडल]] में यह गैस 0.03% से 0.04% तक पाई जाती है, परन्तु [[मौसम]] में परिवर्तन के साथ वायु में इसकी सान्द्रता भी थोड़ी परिवर्तित होती रहती है। यह एक [[ग्रीनहाउस]] गैस है, क्योंकि [[सूर्य]] से आने वाली किरणों को तो यह [[पृथ्वी]] के धरातल पर पहुंचने देती है परन्तु पृथ्वी की गर्मी जब वापस [[अंतरिक्ष]] में जाना चाहती है तो यह उसे रोकती है।
152

सम्पादन