"इन्दौर" के अवतरणों में अंतर

1,434 बैट्स् नीकाले गए ,  5 माह पहले
सुधार किया
(Reverted to revision 5266916 by रोहित साव27 (talk): Reverted (TwinkleGlobal))
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
(सुधार किया)
औद्योगिक शहर होने के साथ-साथ इन्दौर शिक्षा का भी केन्द्र बन के उभरा है। यह भारत का एकमात्र शहर है, जहाँ [[भारतीय प्रबंध संस्थान इंदौर|भारतीय प्रबन्धन संस्थान]] (आईआईएम इन्दौर) व [[भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान इंदौर|भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान]] (आईआईटी इन्दौर) दोनों स्थापित हैं।
 
प्रधानमंत्री [[नरेन्द्र मोदी|नरेंद्र मोदी]] के "स्मार्ट सिटी मिशन" में १०० भारतीय शहरों को चयनित किया गया है जिनमें से इन्दौर भी एक स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जाएगा।<ref>{{cite web |title=100 के बजाय केवल 98 शहरों की घोषणा: स्मार्ट सिटी परियोजना के बारे में सभी सवालों के जवाब दिए |url=https://www.firstpost.com/business/only-98-cities-instead-of-100-announced-all-questions-answered-about-the-smart-cities-project-2410576.html |website=फर्स्टपोस्ट |language=अंग्रेजी |accessdate=28 अगस्त 2015 |archive-url=https://web.archive.org/web/20150829183354/http://www.firstpost.com/business/only-98-cities-instead-of-100-announced-all-questions-answered-about-the-smart-cities-project-2410576.html |archive-date=29 अगस्त 2015 |url-status=dead }}</ref> स्मार्ट सिटी मिशन के पहले चरण के अंतर्गत २० शहरों को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित किया जायेगा और इंदौर भी इस प्रथम चरण का हिस्सा है।<ref>{{cite web|url=http://www.thehindu.com/news/national/list-of-first-20-smart-cities-under-smart-cities-mission/article8162775.ece|title=स्मार्ट सिटी मिशन के तहत पहले २० स्मार्ट शहरों की सूची|publisher=द हिन्दू|accessdate=16 फ़रवरी 2016|archive-url=https://web.archive.org/web/20160222112232/http://www.thehindu.com/news/national/list-of-first-20-smart-cities-under-smart-cities-mission/article8162775.ece|archive-date=22 फ़रवरी 2016|url-status=live}}</ref> 20202021 के स्वच्छस्वच्छता सर्वेक्षण सेके परिणामों में लगातार चौथीपाँचवी बार के परिणामों में इन्दौर '''भारत का सबसे स्वच्छ नगर''' रहा है।<ref>{{Citecite web |url=https://www.patrika.com/story/india/swachh-bharat-rankings-indore-and-bhopal-are-in-top-two-cities-in-the-list-2564301.htmlnews |title=स्वच्छताइंदौर सर्वेक्षणलगातार |access-date=225वीं फ़रवरीबार 2018बना |archive-url=https://web.archive.org/web/20180222225815/https://www.patrika.com/story/india/swachh-bharat-rankings-indore-and-bhopal-are-in-top-two-cities-in-the-list-2564301.htmlसबसे |archive-date=22 फ़रवरी 2018 |url-status=live }}</ref><ref>{{Cite web |url=https://www.jagran.com/news/national-learn-from-indore-how-a-city-becomes-garbage-free-17556570.html |title=स्वच्छ शहर के मामले में इंदौर ने मारी बाजी, सीखेंजानिए इससेदूसरे-तीसरे कैसेस्थान बनतापर हैकौन कोई शहर कचरामुक्तरहा |access-date=22 फ़रवरी 2018 |archive-url=https://web.archive.org/web/20180222061502/https://www.jagranabplive.com/news/nationalindia/president-learnram-fromnath-indorekovind-howto-a-city-becomes-garbage-free-17556570.html |archive-date=22 फ़रवरी 2018 |url-status=live }}</ref><ref>{{cite news |title=स्‍वच्‍छता सर्वेक्षण 2019: इंदौर ने लगाई हैट्रिक, उत्तराखंड का गौचर ‘सर्वश्रेष्ठ गंगा शहर' |url=https://www.jagran.com/news/nationalpresent-swachh-survekshan-2019awards-indore2021-to-cleanest-citycities-uttarakhandsin-gaucharindia-best-ganga-town-19018665.html2001731 |accessdate=617 मार्चदिसम्बर 20192021 |publisherwork=जागरण |date=2019 |archive-url=https://web.archive.org/web/20190306234919/https://www.jagranabplive.com/news/national-swachh-survekshan-2019-indore-cleanest-city-uttarakhands-gauchar-best-ganga-town-19018665.html |archive-datepublisher=6एबीपी मार्चसमाचार 2019 |url-status=live }}</ref><ref>{{Cite news|url=https://economictimes.indiatimes.com/hindi/news/swachh-survekshan-2020-indore-achieved-first-position-in-being-indias-cleanest-city/articleshow/77650149.cms?from=mdr|title=चौथी बार देश का सबसे स्वच्छ शहर बना मध्य प्रदेश का इंदौर|date=2020-08-20|work=The Economicनवम्बर 2021 Times|access-datelanguage=2020-09-26hi}}</ref>
 
==नाम व्युत्पत्ति==
 
[[उज्जैन]] पर विजय पाने की राह में, राजा इंद्र सिंह ने ''काह्न'' नदी (आधुनिक नाम ''' कान '''(Kahn) और विकृत नाम ''खान'') के निकट एक शिविर रखी और वे इस जगह की प्राकृतिक हरियाली से बहुत प्रभावित हुए।
 
इस प्रकार वह नदियों ''काह्न'' और सरस्वती के संगम की जगह पर एक [[शिवलिंग]] रखी और १७३१ ई. में इन्द्रेश्वर मंदिर का निर्माण प्रारम्भ किया। साथ ही ''इंद्रपुर'' की स्थापना की गई। कई वर्षों बाद जब [[पेशवा]] बाजीराव-१ द्वारा, [[मराठा साम्राज्य|मराठा शासन]] के तहत, इसे [[मराठा]] सूबेदार 'मल्हार राव होलकर' को दिया गया था तब से इसका नाम ''इन्दूर'' पड़ा। [[ब्रिटिश राज]] के दौरान यह नाम अपने वर्तमान रूप '''इंदौर''' में बदल गया था।
१६वीं सदी के [[दक्कन का पठार|दक्कन]] (दक्षिण) और [[दिल्ली]] के बीच एक व्यापारिक केंद्र के रूप में इन्दौर का अस्तित्व था। १७१५ में स्थानीय जमींदारों ने इन्दौर को नर्मदा नदी घाटी मार्ग पर व्यापार केन्द्र के रूप में बसाया था।
 
अठारहवीं सदी के मध्य में [[मल्हारराव होलकर|मल्हारराव होल्कर]] ने [[बाजीराव प्रथम|पेशवा बाजीराव प्रथम]] की ओर से अनेक लड़ाइयाँ जीती थीं। [[मालवा]] पर पूर्ण नियंत्रण ग्रहण करने के पश्चात, १८ मई १७२४ को इंदौर [[मराठा साम्राज्य]] में सम्मिलित हो गया था। १७३३ में बाजीराव पेशवा ने इन्दौर को मल्हारराव होल्कर को पुरस्कार के रूप में दिया था। उसनेमल्हारराव ने [[मालवा]] के दक्षिण-पश्चिम भाग में अधिपत्य कर होल्कर राजवंश की नींव रखी और इन्दौर को अपनी राजधानी बनाया। उसकी मृत्यु के पश्चात दो अयोग्य शासक गद्दी पर बैठे, किन्तु तीसरी शासिका [[अहिल्याबाई होल्कर|अहिल्या बाई]] (१७५६-१७९५ ई.) ने शासन कार्य बड़ी सफलता के साथ निष्पादित किया। जनवरी १८१८ में इन्दौर ब्रिटिश शासनराज के अधीन हो गया। यहइसे ब्रिटिश मध्य भारत संस्था का मुख्यालय एवं मध्य भारत की ग्रीष्मकालीन राजधानी (१९५४-५६) बनाया गया था। इन्दौर में होल्कर नरेशों के प्रासाद उल्लेखनीय हैं।
 
[[ब्रिटिश राज]] के दिनों में, [[इन्दौर रियासत]] एक १९ गन सेल्यूट (स्थानीय स्तर पर २१) [[रियासत]] था, जो की उस समय एक दुर्लभ उच्च श्रेणी थी। अंग्रेजी काल के दौरान में भी यह होलकर राजवंश द्वारा शासित रहा। भारत के स्वतंत्र होने के कुछ समय बाद, यह भारत अधिराज्य में विलय कर दिया गया। इंदौर १९५० से १९५६ तक [[मध्य भारत (पूर्व राज्य)|मध्य भारत]] की राजधानी के रूप में भी रहा।
{{मुख्य| होलकर}}
[[चित्र:Tukojirao III Maharaja Holkar of Indore.jpg|thumb|right|200px| इंदौर के महाराज '''तुकोजीराव होलकर तृतीय''' (१८९०-१९७८)]]
शहर में बढ़ रही व्यावसायिक गतिविधियों के कारण स्थानीय परगना मुख्यालय कम्पेल से इंदौर के लिए १७२० में स्थानांतरित कर दिया गया। १८ मई १७२४ को , निज़ाम ने बाजीराव प्रथम द्वारा क्षेत्र से [[चतुर्थी|चौथ]] (कर) इकट्ठा करने के लिए मंज़ूरी दे दी। १७३३ में, [[पेशवा]] ने [[मालवा]] का पूर्ण नियंत्रण ग्रहण किया, और कमांडरसेनानायक [[मल्हारराव होलकर]] को प्रान्त के सूबेदार (राज्यपाल) के रूप में नियुक्त किया।<ref name = "मैल्कम-संस्मरण">मेजर जनरल सर [[जॉन मैल्कम]], ''मालवा के संस्मरण'' (१९१२)</ref> नंदलाल चौधरी ने [[मराठा साम्राज्य|मराठों]] का आधिपत्य स्वीकार<ref>{{वेब सन्दर्भ|title=कम्पेल का इतिहास|url=http://raorajaofindore.com/history.html#Header_wrapper1|website=Rao raja of indore|accessdate=3 अप्रैल 2016|archive-url=https://web.archive.org/web/20160411122747/http://raorajaofindore.com/history.html#Header_wrapper1|archive-date=11 अप्रैल 2016|url-status=dead}}</ref> कर लिया। [[मराठा साम्राज्य|मराठा शासन]] के दौरान, चौधरीयों को "मंडलोई" (मंडल से उत्पत्ति) के रूप में जाना जाने लगा। [[होलकर|होलकरों]] ने नंदलाल के परिवार को ''राव राजा"<ref>{{वेब सन्दर्भ|title=राव राजा नंदलाल जी|url=http://raorajaofindore.com/history.html#Header_wrapper1|website=इंदौर के राव राजा|accessdate=3 अप्रैल 2016|archive-url=https://web.archive.org/web/20160411122747/http://raorajaofindore.com/history.html#Header_wrapper1|archive-date=11 अप्रैल 2016|url-status=dead}}</ref> की विभूति प्रदान की।<ref>मेजर जनरल सर जॉन मैल्कम, 'मध्य भारत, प्रथम भाग'-पृष्ठ ६८-७०</ref> साथ ही साथ [[होलकर|होलकर शासकों]] [[दशहरा]] पर होलकर परिवार से पहले "शमी पूजन" करने की अनुमति भी दे दी।
 
२९ जुलाई १७३२, बाजीराव पेशवा प्रथम ने होलकर राज्य में '२८ और आधा परगना' में विलय कर दी जिससे [[मल्हारराव होलकर]] ने [[होलकर|होलकर राजवंश]] की स्थापना की।
==भूगोल ==
 
इंदौर [[मालवा]] पठार के दक्षिणी किनारे पर मध्य प्रदेश के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित है। [[क्षिप्रा नदी|क्षिप्रा]] नदी की सहायक नदियों, सरस्वती और ''कान'' (खान) नदियों, पर स्थित हैं और समुद्र तल से औसत ऊंचाई के ५५३.०० मीटर है। यह एक ऊंचा मैदान है जिसके दक्षिण पर [[विन्ध्याचल पर्वत शृंखला|विंध्य रेंजशृंखला]] है।
 
[[यशवंत सागर झील]] के अलावा, वहाँ कई झील जैसे की सिरपुर टैंक, बिलावली तालाब, सुखनिवास झील और पिपलियापाला तालाब सहित शहर को पानी की आपूर्ति कर रहे हैं। शहर क्षेत्र में मिट्टी मुख्य रूप से काली मिट्टी पाई जाती है। उपनगरों में, मिट्टी काफी हद तक लाल और काले रंग की है। क्षेत्र के अंतर्निहित चट्टान काली बेसाल्ट से बनी है, और उनके अम्लीय और बुनियादी वेरिएंट क्रीटेशयस युग तक जाते हैं। इस क्षेत्र को भारत के भूकंपीय जोन में '''तृतीय क्षेत्र''' के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जिसके अनुसार यह रिक्टर पैमाने पर ६.५ व ऊपर की तीव्रता केवाले एक भूकंपभूकंपीय उम्मीदक्षेत्र कीके जाअन्तर्गत सकतीआता है।
 
पश्चिम में, [[पीथमपुर]] और बेटमा जैसे शहरों के साथ इंदौर ज़िले की सीमा धार के प्रशासनिक जिले के साथ लगी हुई हैं; और साथ ही उत्तर-पश्चिम में हातोद व देपालपुर; उत्तर की ओर सांवेर कीके [[उज्जैन ज़िला|उज्जैन जिले]] के साथ; पूर्वोत्तर में माँगलिया सड़क की [[देवास ज़िला|देवास ज़िले]] के साथ; दक्षिण पूर्व में सिमरोल; दक्षिण में [[डॉ॰ आम्बेडकर नगर|महू]], और मानपुर की सीमा [[खंडवा ज़िला|खंडवा जिले]] के साथ।
इन शहरों (और कुछ बड़े पास के उपनगरों, जैसे राऊ, अहिरखेड़ी, हुकमाखेड़ी, खंडवा नाका, कनाड़िया, रंगवासा, पालदा, सिहांसा) को मिलाकर इंदौर एक सन्निहित निर्मित शहरी क्षेत्र ''इंदौर महानगर क्षेत्र'' कहलाता है। जो की एक अनौपचारिक प्रशासनिक जिला माना जाता है।
 
}}
 
इंदौर मध्य प्रदेश में सबसे अधिक आबादी वाला शहर है। मध्य भारत में इंदौर सबसे बड़ा नगर है। भारत की २०११ की जनगणना के अनुसार, इंदौर शहर (नगर निगम के तहत क्षेत्र) की जनसंख्या १९,६४,०८६ है। <ref name="जनगणना शहर">[http://censusindia.gov.in/pca/pcadata/DDW_PCA2322_2011_MDDS% 20with% भारत के 20UI.xlsx जनगणना, 2011]{{Dead link|date=जून 2020 |bot=InternetArchiveBot }}</ref> इंदौर महानगर की आबादी (शहरी व पड़ोसी क्षेत्रों को मिलाकर) २१,६७,४४७ है। <ref name ="census_metro">{{cite web |url=http://censusindia.gov.in/2011-prov-results/paper2/data_files/India2/Table_3_PR_UA_Citiees_1Lakh_and_Above.pdf |title=अंतिम जनसंख्या योग, जनगणना 2011, भारत |accessdate=२८ मार्च २०१६ |archive-url=https://web.archive.org/web/20131017153124/http://censusindia.gov.in/2011-prov-results/paper2/data_files/India2/Table_3_PR_UA_Citiees_1Lakh_and_Above.pdf |archive-date=17 अक्तूबर 2013 |url-status=dead }}</ref> २०१० में, शहर वर्गकी मीलजनसंख्या घनत्व (९७१८ /प्रति वर्ग किमी २५थी,१७० लोगोंजोकि की आबादी के घनत्व था), यह सबसे घनी [[मध्य प्रदेश|मध्यप्रदेश]] मेंके १,००,००० से अधिक आबादी वाले सभी नगर पालिकाओं कीसे आबादीसबसे घनी प्रतिपादन।हैं।
वर्ष २०११ की जनगणना के अनुसार, इंदौर शहर ८७.३८% की एक औसत साक्षरता दर ७४% के राष्ट्रीय औसत से अधिक है। पुरुष साक्षरता ९१.८४% थी, और महिला साक्षरता ८२.५५% था। <ref name = indore1>{{Cite web |url=http://www.indore.nic.in/statistics.htm |title=इंदौर सांख्यिकी |access-date=3 फ़रवरी 2016 |archive-url=https://web.archive.org/web/20120513061141/http://indore.nic.in/statistics.htm |archive-date=13 मई 2012 |url-status=dead }}</ref> इंदौर की जिला प्रशासन। २००९ इंदौर में लिया, जनसंख्या का १२.७२% उम्र के ६ वर्ष से कम (प्रति २०११ की जनगणना के रूप में) है। जनसंख्या की औसत वार्षिक वृद्धि दर २०११ की जनगणना रिपोर्ट के अनुसार।
[[हिन्दी]] इंदौर शहर की आधिकारिक भाषा है, और जनसंख्या के बहुमत द्वारा बोली जाती हैंहैं। जैसेमराठा [[बुंदेलीसम्राज्य भाषा|बुंदेली]],के मालवीप्रभुत्व औरके कारण यहाँ [[छत्तीसगढ़ीमराठी भाषा|छत्तीसगढ़ीमराठी]] बोलने वाले लोगो की भी बोलीकाफ़ी जातीसंख्या हैं। वक्ताओंप्रदेश मेंके एक मुख्य शहर होने के साथ ही यहाँ विभिन्न राज्यो से एकआकर बसे पर्याप्त संख्या में लोगो के साथ अन्य भाषाएँ जैसे [[बाङ्लाबुंदेली भाषा|बंगालीबुंदेली]], मालवी, [[उर्दूगुजराती भाषा|उर्दूगुजराती]], [[मराठीसिन्धी भाषा|मराठीसिंधी]] शामिल हैं, [[सिन्धीबाङ्ला भाषा|सिंधीबंगाली]], और[[छत्तीसगढ़ी भाषा|छत्तीसगढ़ी]],[[गुजरातीउर्दू भाषा|गुजरातीउर्दू]] भी बोली जाती हैं।<ref>{{cite web |url = http://www.indore.nic.in/culture_E.html |title = संस्कृति और विरासत |publisher = जिला कलेक्टर इंदौर |accessdate = 29 जनवरी 2016 |archive-url = https://web.archive.org/web/20160221050318/http://www.indore.nic.in/culture_E.html |archive-date = 21 फ़रवरी 2016 |url-status = dead }}</ref>
 
२०१२ के आंकड़ों के अनुसार पाकिस्तानी हिन्दू प्रवासी शहर (कुल राज्य के १०,००० में से) में रहते हैं <ref>{{cite web|url=http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-12-13/indore/35796154_1_pakistani-hindus-bjp-citizenship|work=द टाइम्स ऑफ इंडिया|title=१,००० पाकिस्तानी हिंदुओं इंदौर की ओर पलायन|accessdate=14 दिसंबर 2012|archive-url=https://web.archive.org/web/20130524222928/http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2012-12-13/indore/35796154_1_pakistani-hindus-bjp-citizenship|archive-date=24 मई 2013|url-status=live}}</ref>
== शिक्षा ==
===शिक्षण संस्थाएँ===
इंदौर महाविद्यालयो और विद्यालयो की श्रृंखलाशृंखला के लिए जाना जाता है। इंदौर में छात्रों की एक बड़े छात्रबड़ी आबादी है और यह मध्य भारत में एक बड़ा शिक्षा का केंद्रएक है,बड़ा यह भी मध्य भारत के एजुकेशन हब हैकेंद्र है।<ref>{{cite web|url=http://www.mpakvnindore.com/index.php?|title=इंदौर-तकनीकी और उच्च शिक्षा का एक केंद्र|author=MPAKVN|publisher=MPAKVN|accessdate=31 दिसम्बर 2015|archive-url=https://web.archive.org/web/20160311065558/http://www.mpakvnindore.com/index.php|archive-date=11 मार्च 2016|url-status=dead}}</ref> इंदौर में अधिकांश प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल [[केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड| केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई)]] से मान्यता प्राप्त है। हालांकि, स्कूलों की संख्या में काफी कुछ आईसीएसई बोर्ड, एनआईओएस बोर्ड, CBSEi बोर्ड और राज्य स्तर सांसद के साथ संबद्ध हैं।
 
डेली कॉलेज, 1882 में स्थापना की, दुनिया में सबसे पुराना सह-शिक्षा बोर्डिंग स्कूलो में से एक है, जो '[[मराठा]]' की केन्द्रीय भारतीय रियासतों के शासकों को शिक्षित करने के लिए स्थापित किया गया था। <ref name=lord>''[[Lord Curzon]] in India: Being a Selection from His Speeches as [[Viceroy and Governor-General of India]] 1898-1905'', by George Nathaniel Curzon Curzon, Thomas Raleigh. Published by Macmillan and co., limited, 1906. ''Page 233''. Speech: "4th November, 1905"...."The old Daly College was founded here as long ago as 1881, in the time of that excellent and beloved Political Officer, Sir [[Henry Daly]]"...</ref>