"अश्वत्थामा": अवतरणों में अंतर

214 बाइट्स जोड़े गए ,  8 माह पहले
छो
सम्पादन सारांश नहीं है
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल एप सम्पादन Android app edit
छोNo edit summary
[[चित्र:Draupadi and Ashvatthaman, Punjab Hills c. 1730.jpg|thumb|Draupadi and Ashvatthaman, Punjab Hills c. 1730]]
द्रौपदी के इन न्याय तथा धर्मयुक्त वचनों को सुन कर सभी ने उसकी प्रशंसा की किन्तु भीम का क्रोध शांत नहीं हुआ। इस पर श्रीकृष्ण ने कहा, “हे अर्जुन! शास्त्रों के अनुसार पतित ब्राह्मण का वध भी पाप है और आततायी को दण्ड न देना भी पाप है। अतः तुम वही करो जो उचित है।” उनकी बात को समझ कर अर्जुन ने अपनी तलवार से अश्वत्थामा के सिर के केश काट डाले और उसके मस्तक की मणि निकाल ली। मणि निकल जाने से वह श्रीहीन हो गया। श्रीहीन तो वह उसी क्षण हो गया था जब उसने बालकों की हत्या की थी किन्तु केश मुंड जाने और मणि निकल जाने से वह और भी श्रीहीन हो गया और उसका सिर झुक गया। अर्जुन ने उसे उसी अपमानित अवस्था में शिविर से बाहर निकाल दिया।
 
[https://marindhi.blogspot.com/2019/11/blog-post_87.html महाभारत की कहाणी - पराक्रमी वीर योद्धा अश्वत्थामा की जीवनी]
 
[[श्रेणी:महाभारत के पात्र]]
5

सम्पादन