"वृन्दावन": अवतरणों में अंतर

157 बाइट्स जोड़े गए ,  6 माह पहले
सम्पादन सारांश नहीं है
(wrong images removed, ‎Kusum Sarovar is located outside of Vrindavan)
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
 
यह कृष्ण की लीलास्थली है। हरिवंश पुराण, श्रीमद्भागवत, विष्णु पुराण आदि में वृन्दावन की महिमा का वर्णन किया गया है। कालिदास ने इसका उल्लेख रघुवंश में इंदुमती-स्वयंवर के प्रसंग में शूरसेनाधिपति सुषेण का परिचय देते हुए किया है इससे कालिदास के समय में वृन्दावन के मनोहारी उद्यानों की स्थिति का ज्ञान होता है। श्रीमद्भागवत के अनुसार गोकुल से कंस के अत्याचार से बचने के लिए नंदजी कुटुंबियों और सजातीयों के साथ वृन्दावन निवास के लिए आये थे। [[विष्णु पुराण]] में इसी प्रसंग का उल्लेख है। विष्णुपुराण में अन्यत्र वृन्दावन में कृष्ण की लीलाओं का वर्णन भी है।
वर्तमान में टटिया स्थान, निधिवन, सेवाकुंज, मदनटेर,बिहारी जी की बगीची, लता भवन (प्राचीन नाम टेहरी वाला बगीचा) आरक्षित वनी के रूप में दर्शनीय हैं। और प्रेम मंदिर, वैष्णो देवी मंदिर बिहारी लाल जी का मंदिर है।
 
== प्राचीन वृन्दावन ==
गुमनाम सदस्य