"सर्वनाम": अवतरणों में अंतर

6 बाइट्स जोड़े गए ,  7 माह पहले
छो
2409:4073:4D9A:C3D7:0:0:788B:9D14 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 5456955 को पूर्ववत किया
('इसने'मे निहित सर्वनाम अलग करके लिखें)
टैग: यथादृश्य संपादिका मोबाइल संपादन मोबाइल वेब संपादन
छो (2409:4073:4D9A:C3D7:0:0:788B:9D14 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 5456955 को पूर्ववत किया)
टैग: किए हुए कार्य को पूर्ववत करना
'''सर्वनाम''' उन शब्दों को कहा जाता है, जिन शब्दों का प्रयोग [[संज्ञा]] अर्थात किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान आदि,के नाम के स्थान पर करते हैं। इसके अंतर्गत मै , तुम, तुम्हारा, आप, आपका, इस, उस, यह, वह, हम, हमारा ,आदि शब्द आते हैं।
 
== इसनेपरिभाषा ==
 
 
 
[[कामताप्रसाद गुरु|कामताप्रसाद गुरू]] के मतानुसार- सर्वनाम उस विकारी शब्द को कहते हैं जो पूर्वापर संबंध से किसी भी संज्ञा के बदले में आता है, जैसे, मैं (बोलनेवाला), तू (सुननेवाला), यह (निकट-वर्ती वस्तु), वह (दूरवर्ती वस्तु) इत्यादि।
वाक्य में जिस शब्द का प्रयोग संज्ञा के बदले में होता है, उसे सर्वनाम कहते हैं। सर्वनाम शब्द का अर्थ है- सब का नाम। संज्ञा जहाँ केवल उसी नाम का बोध कराती है, जिसका वह नाम है, वहाँ सर्वनाम से केवल एक के ही नाम का नहीं, सबके नाम का बोध होता है। जैसे – राधा कहने से केवल इस नामवाली लड़की का बोध होगा किन्तु सीता, गीता, राम, श्याम सभी अपने लिए मैं का प्रयोग करते हैं तो मैं इन सबका नाम होगा। इसी तरह बोलनेवाले अनेक नामों के बदले तुम या आप और सुननेवाले अनेक नामों के बदले वह या वे का प्रयोग होता है।
1,075

सम्पादन