"बुंदेली भाषा": अवतरणों में अंतर

1,821 बैट्स् जोड़े गए ,  2 माह पहले
→‎क्षेत्रीय बुंदेलखंडी: बुंदली भाषा के संबंध में लेख का विस्तार किया, और उपयोगी जानकारी जोड़ी।
No edit summary
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
(→‎क्षेत्रीय बुंदेलखंडी: बुंदली भाषा के संबंध में लेख का विस्तार किया, और उपयोगी जानकारी जोड़ी।)
टैग: मोबाइल संपादन मोबाइल वेब सम्पादन
==क्षेत्रीय बुंदेलखंडी==
जो बोली पन्ना सागर झांसी आदि में बोली जाती है वो ठेठ तथा जो विदिशा रायसेन होशंगाबाद में बोली जाती है क्षेत्रीय बुंदेलखंडी कहलाती है।
 
बुंदेलखंड के उत्तरप्रदेश स्थित जिलों में भी बुंदेली भाषा में शब्द वैविध्य है, जनपद जालौन की बुंदेली हिंदी खड़ी बोली के अधिक करीब है, प्रायः बातचीत में अधिकांश शब्द खड़ी बोली के मिलेंगे,जबकि झांसी जनपद के ग्रामीण क्षेत्र की बोली पर मध्यप्रदेश की सीमा होने के कारण वहां का असर है, ऐसा ही ललितपुर की बोली में भी है।
वहीं हमीरपुर बांदा और चित्रकूट की बुंदेली कुछ अलग है, पहले पहल सुनने पर आपको कुछ कठोर लग सकती है किंतु वह उनके बोलने का तरीका है, जैसे कि ग्वालियर मुरैना क्षेत्र की बोली में कुछ कर्कशता महसूस होती है, जो वास्तव में होती नहीं है।
कुछ शब्द देखिए -
 
नांय - यहां
मायं - वहां
वारे - बच्चे
मुंस - आदमी, मनुष्य
परबायरे - पृथक, अलग
पबर जाओ - चले जाओ
मौं - मुंह
पनबेसरे - परमेश्वर
 
और भी ऐसे ही हजारों शब्द हैं।
 
== इन्हें भी देखें ==